Breaking
पहली अप्रैल से 2.31 लाख महिलाओं को मिलेंगे प्रतिमाह 1500 रुपये-हर्षवर्धन चौहान               वनों में आग रोकने के लिए लें स्थानीय लोगों की मदद: सीसीएफ               भूस्खलन के चलते चंबा शहर की पेयजल व्यवस्था का जल्द होगा समाधान - नीरज नैय्यर               व्यापार में सुगमता के लिए प्रदेश में स्थापित होगा निवेश ब्यूरो: मुख्यमंत्री               बबेली में नशा मुक्त भारत अभियान के तहत जागरूकता शिविर               धर्मशाला में 32 लाख से स्थापित होंगे 5 नए फायर हाइड्रेंट : डॉ. निपुण जिंदल               जनांदोलन डैशबोर्ड में प्रतिदिन करें पोषण पखवाड़ा के कार्यों का विवरण अपलोड               बांगरण पुल पर 26 मार्च से 25 अप्रैल तक नहीं चलेंगे वाहन -उपायुक्त               मेडिकल कॉलेज भवन के लिए 49 करोड़ की अतिरिक्त धन राशि जारी– नीरज नैय्यर               उचित मूल्य की दुकान स्थापित करने हेतू आवेदन पत्र आमन्त्रित

मंडी जिले में 35 नए मतदान केंद्र

हिम न्यूज़ मंडी –  हिमाचल में निकट समय में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए मंडी जिले में 35 नए मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इस तरह जिले में मतदान केंद्रों की संख्या 1155 से बढ़ कर 1190 हो गयी है। जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त अरिंदम चौधरी ने बताया कि जिले के सभी विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों के मतदान केंद्रों की अंतिम सूची प्रकाशित कर दी गई है।

ये सूची जिला प्रशासन की वेब साइट और सोशल मीडिया पेज के साथ साथ उपायुक्त और एसडीएम कार्यालयों में लोगों के अवलोकन के लिए उपलब्ध है।
इसके अलावा उन्होंने बताया कि जिला में ईवीएम की प्रथम चरण की चेकिंग और तैयारी का काम पूरा कर लिया गया है। चुनावों के लिए करीब 2 हजार ईवीएम मशीन तैयार की गई हैं।

अरिंदम चौधरी ने 18 साल के हो चुके सभी युवाओं से मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज कराने की अपील की है। उन्होंने बताया कि पहली अक्तूबर , 2022 तक 18 साल की आयु पूरी कर चुके सभी पात्र नागरिक  अपना वोट बनवा सकते हैं। इसे लेकर हैल्प लाईन नम्बर 1950 पर भी सम्पर्क किया जा सकता है।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मतदाता पहचान पत्र को आधार संख्या से जोड़ने के लिए मंडी जिला के सभी दस विधानसभा क्षेत्रों में एक विशेष अभियान आरंभ किया गया है । इस अभियान का मुख्य उद्देश्य मतदाता सूची में आसान व सही पंजीकरण, मतदाता सूची को त्रुटि रहित व निरन्तर अद्यतन बनाना और मतदाताओं के नामों में संशोधन तथा दोहरे व जाली पंजीकरण की रोकथाम करना है ।

उन्होंने मतदाताओं से मतदाता पहचान पत्र को आधार संख्या से जोड़ने के इस अभियान में आगे आकर भाग लेने की अपील की है।