Breaking
डाक मतपत्र से वोट डाल सकेंगे आवश्यक सेवाओं में लगे मतदाता: डीसी         बैलेट पेपर एवं पोस्टल बैलेट पेपर प्रिंट करने के संबंध में बैठक आयोजित         उपायुक्त ने बीडीओ टूटू अनमोल को यूपीएससी परीक्षा पास करने पर दी बधाई         आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद 7.85 करोड़ रुपये की जब्ती         अग्निवीर की ऑनलाइन परीक्षा 22 अप्रैल से         अपनी खीज मिटाने में जुटे कांग्रेस नेता - बिंदल         दुर्गाष्टमी के अवसर पर राजभवन में फलाहार ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन         बिजली रहेगी गुल         कांग्रेस पार्टी की नियत में खोट, 1500 महिलाओं को देना की इच्छा नहीं : त्रिलोक         भाजपा का संकल्प पत्र मोदी की गारंटी : बिंदल         बायोलचिम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने किया किसान संगोष्ठी का सफल आयोजन         भाजपा संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने कार्यकर्ताओं को चुनावी टिप्स         कंगना के साथ भाजपा नेता जयराम ठाकुर ने की दलाई लामा से मुलाकात         मतदाता पहचान पत्र बनाने के लिए नए मतदाता 4 मई तक कर सकते हैं आवेदन         आधुनिक हिमाचल के निर्माण में स्व. वीरभद्र सिंह ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका : यशवंत छाजटा         केंद्रीय विद्यालय सलोह में रिक्तियों के लिए आवेदन 25 अप्रैल तक         आवश्यक सेवाओं से जुड़े अधिकारी व कर्मचारी पोस्टल बेल्ट सुविधा से कर सकेंगे मतदान         परस राम धीमान और समर्थकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह से की मुलाकात         राहुल गाँधी की न्याय गारंटियों का प्रदेशभर में प्रचार करेंगी एनएसयूआई         भाजपा ने 1500 रुपये रुकवाकर महिलाओं को किया अपमानित : कांग्रेस

पेयजल स्रोतों की स्वच्छता का रखें विशेष ध्यान

हिम न्यूज़, मंडी।  जिला प्रशासन जल जनित रोगों से लोगों के बचाव को लेकर सभी एहतियाती कदम उठाने के साथ साथ जन जागरूकता पर जोर दे रहा है।

लोगों को पेयजल स्रोतों की साफ सफाई को लेकर जागरूक किया जा रहा है। इसके अलावा उपायुक्त अरिंदम चौधरी के निर्देशानुसार स्वास्थ्य और जल शक्ति विभाग पेयजल स्रोतों की साफ-सफाई तथा स्रोतों की क्लोरीनेशन सुनिश्चित बना रहे हैं। इसके अतिरिक्त, पेयजल स्रोतों से सैंपल लेकर पानी की जांच की जा रही हैं, ताकि लोगों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराया जा सके।

अरिंदम चौधरी का कहना है कि साफ-सुथरे रहन-सहन, स्वस्थ खान-पान एवं बचाव को लेकर आवश्यक एहतियात बरतने से पीलिया समेत अनेक जल जनित रोगों से आसानी से बचा जा सकता है। जिले में स्वच्छता अभियान के तहत पेयजल स्रोतों की साफ-सफाई पर विशेष बल दिया गया है तथा इस कार्य के लिए संबंधित विभाग स्थानीय लोगों का सहयोग भी सुनिश्चित बना रहे हैं।

पीलिया के लक्षण

मंडी जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. देवेंद्र शर्मा पीलिया रोग के लक्षणों के बारे में बताते हैं कि इसमें पीड़ित को आंखों के सफेद भाग का पीला होना, बुखार रहना व भूख न लगना, जी मितलाना और कभी-कभी उल्टियां होना, पीला पेशाब आना, चिकनाई वाले भोजन से अरुचि, अत्यधिक कमजोरी व थकान महसूस होना तथा पेट के ऊपरी दाएं भाग में भारीपन या दर्द जैसे लक्षण महसूस होते हैं।

रोकथाम एवं सावधानियां

डॉ. देवेंद्र शर्मा का पीलिया रोग से बचाव के लिए लोगों को सुझाव है कि वे पेयजल को कम से कम 15-20 मिनट तक उबाल कर पिएं, मीठे पदार्थों का सेवन करें एवं खाद्य पदार्थों को ढककर रखें। खाना बनाने, परोसने, खाने से पहले व बाद में और शौच जाने के बाद हाथों को साबुन से अच्छी तरह से धोेएं। साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें तथा यह ख्याल रखंे कि कूड़ा-कर्कट इधर-उधर न फैले । पीलिया के लक्षण होने पर तुरंत चिकित्सक से सम्पर्क करें।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी लोगों से आग्रह करते हुए कहते हैं कि वे गले-सड़े या कटे फल और सब्जियों का सेवन न करें, पानी के स्रोतों दूषित न करें, खुले में शौच न करें। पीलिया होने पर चिकनाई युक्त भोजन न करें, भारी काम न करें, शराब का सेवन न करें।

पीलिया झड़वाने के लिए झाड़-फंूक में समय न गंवाएं। तुरंत डॉक्टरी सलाह लें।