Breaking
डाक मतपत्र से वोट डाल सकेंगे आवश्यक सेवाओं में लगे मतदाता: डीसी         बैलेट पेपर एवं पोस्टल बैलेट पेपर प्रिंट करने के संबंध में बैठक आयोजित         उपायुक्त ने बीडीओ टूटू अनमोल को यूपीएससी परीक्षा पास करने पर दी बधाई         आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद 7.85 करोड़ रुपये की जब्ती         अग्निवीर की ऑनलाइन परीक्षा 22 अप्रैल से         अपनी खीज मिटाने में जुटे कांग्रेस नेता - बिंदल         दुर्गाष्टमी के अवसर पर राजभवन में फलाहार ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन         बिजली रहेगी गुल         कांग्रेस पार्टी की नियत में खोट, 1500 महिलाओं को देना की इच्छा नहीं : त्रिलोक         भाजपा का संकल्प पत्र मोदी की गारंटी : बिंदल         बायोलचिम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने किया किसान संगोष्ठी का सफल आयोजन         भाजपा संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने कार्यकर्ताओं को चुनावी टिप्स         कंगना के साथ भाजपा नेता जयराम ठाकुर ने की दलाई लामा से मुलाकात         मतदाता पहचान पत्र बनाने के लिए नए मतदाता 4 मई तक कर सकते हैं आवेदन         आधुनिक हिमाचल के निर्माण में स्व. वीरभद्र सिंह ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका : यशवंत छाजटा         केंद्रीय विद्यालय सलोह में रिक्तियों के लिए आवेदन 25 अप्रैल तक         आवश्यक सेवाओं से जुड़े अधिकारी व कर्मचारी पोस्टल बेल्ट सुविधा से कर सकेंगे मतदान         परस राम धीमान और समर्थकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह से की मुलाकात         राहुल गाँधी की न्याय गारंटियों का प्रदेशभर में प्रचार करेंगी एनएसयूआई         भाजपा ने 1500 रुपये रुकवाकर महिलाओं को किया अपमानित : कांग्रेस

नशे के आदी व्यक्तियों के पुनर्वास में नशामुक्ति केन्द्रों की अह्म भूमिका-डीसी

 हिम न्यूज़,  कुल्लू । नशीले पदार्थों का सेवन व्यक्ति को और उसके परिवार को बर्वाद कर देता है। नशे से युवाओं को बचाने के लिये समाज के प्रत्येक व्यक्ति को आगे आकर अपनी सकारात्मक भूमिका का निर्वहन करना जरूरी हैै।

मेडिकल साईंस में यह बात सामने आई है कि जिस परिवार में कोई व्यक्ति नशा करता है तो उसकी भावी पीढ़ियां भी इससे अछूती नहीं रहती। इसलिये जरूरी है कि व्यक्ति अपनी आने वाली संतानों के भविष्य के बारे में सोचकर नशे की आदत से दूर रहे। यह बात उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने नशामुक्त भारत अभियान के तहत जिला स्तरीय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही।

आशुतोष गर्ग ने कहा कि व्यक्ति को नशे से बाहर निकालने के लिये जिला में नशामुक्ति केन्द्र कार्य कर रहे हैं। क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में अभी तक 6000 से अधिक ऐसे व्यक्तियों का पंजीकरण हो चुका है जो किसी न किसी नशे में संलिप्त थे। इनमें बहुत से व्यक्तियों को नशे के गर्त से बाहर निकाला जा चुका है जो एक सामान्य और प्रतिष्ठित जीवन यापन कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि नशामुक्ति केन्द्र में नशेड़ी व्यक्ति को लाने में किसी प्रकार का संकोच नहीं किया जाना चाहिए। इस कार्य में परिवार के सदस्यों को भी सहयोग करने की आवश्यकता है।

उपायुक्त ने  नशे के आदी व्यक्तियों के परिजनों की काउंसलिग की आवश्यकता पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि नशेड़ी व्यक्ति की सामाजिक व आर्थिक स्थिति का पूरा विवरण रिकार्ड किया जाना चाहिए ताकि उसकी काउंसलिंग करने में आसानी हो सके।

नशा के आदी व्यक्तियों के पुनर्वास के लिये सरकार की अनेक  योजनाएं

आशुतोष गर्ग ने कहा कि नशेड़ी व्यक्तियों के पुनर्वास के लिये सरकार की अनेक ऐसी योजनाएं हैं जिनसे वे स्वरोजगार अपनाकर अपनी आजीविका अर्जित कर सकते हैं। मनरेगा, आरसेटी व हि.प्र. कौशल विकास निगम के अलावा डीआरडीए की विभिन्न योजनाओं के तहत अनेक क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान करके व्यक्ति को आजीविका अर्जित करने के लिये सक्षम बनाया जा सकता है। इसके अलावा मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना से व्यक्ति अपने उद्यम स्थापित कर सकते हैं। नशे से बाहर निकले युवाओं को इन योजनाओं के बारे में जानकारी प्रदान करके उन्हें योजना का लाभ प्राप्त करने के लिये प्रेरित किया जाना चाहिए।

बैठक की कार्यवाही का संचालन करते हुए अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी प्रशांत सरकैक ने जिला में नशामुक्त भारत अभियान को व्यवहारिक तौर पर सफलता प्रदान करने के लिये एक कार्ययोजना का प्रारूप प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि नशे का सेवन समाज में रोकने के लिये इसके दुष्प्रभावों के बारे में लोगों को जागरूक किया जाना चाहिए। नशे के आदी व्यक्तियों का पता लगाकर उनका उपचार व काउंसलिंग बड़े पैमाने पर की जाएगी। नशे से बाहर निकल चुके व्यक्तियों को अभियान का हिस्सा बनाया जाएगा और उनके अनुभवों का व्यापक प्रचार प्रसार किया जाएगा।

इस बात पर बल दिया गया कि नशामुक्ति केन्द्रों तथा कॉल सेंटर के बारे में जिला में प्रत्येक व्यक्ति को जानकारी होना जरूरी है। इस संबंध में स्कूलों में मास्टर प्रशिक्षक नियुक्त करके प्रातःकालीन सभा में बच्चों को जानकारी प्रदान की जाएगी। अध्यापक-अभिभावक बैठकों में इसके बारे में चर्चा की जाएगी। कार्यनीति में पंचायत स्तर पर पारम्परिक खेलों का आयोजन करके अधिक से अधिक युवाओं को जोड़ा जाएगा। इसके बाद खण्ड स्तर पर तथा जिला स्तर पर प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी ताकि युवाओं का खेलों के प्रति रूझान बढ़े और उनका ध्यान नशीले पदार्थों के सेवन की ओर आकर्षित न हो।

नशा के आदी व्यक्ति के परिजनों की काउंसलिंग

नशेड़ी व्यक्ति के परिजनों की काउंसलिंग को कार्ययोजना में शामिल किया गया है। सबसे अधिक जानकारी नशेड़ी व्यक्ति की परिजनों को होती है और उनका दायित्व बनता है कि वह इस बात को छिपाने के बजाए व्यक्ति को नशे से बाहर निकालने में मदद करें। व्यक्ति को स्वयं सामने आकर बताना चाहिए कि वह नशे का आदी है और अब इससे निजात चाहता है। स्कूलों और कॉलेजों में अभियान के तहत नशे का सेवन करने वाले युवाओं का पता लगाकर उनकी काउंसलिंग व उपचार किया जाना भी कार्य योजना में शामिल किया गया है।

बैठक में अवगत करवाया गया कि ग्रामीण स्तर पर नुक्कड़ व नाटकों के माध्यम से लोगों को नशीले पदार्थों के प्रयोग के दुष्परिणामों का एक प्रभावी संदेश देने के प्रयास किये जाएंगे। गांवों में आयोजित होने वाले मेलों व त्यौहारों के दौरान इस प्रकार के संदेश अधिक व्यवहारिक होंगे। जिला में आयोजित होने वाले सभी प्रकार के खेल टूनामेन्टस् में नशीले पदार्थों के सेवन से बचने की जानकारी दी जाएगी। इसके लिये पोस्टर, बैनर लगाएं जाएंगे तथा पैम्फलेट वितरित किये जाएंगे। शिक्षण संस्थानों में तथा मेलों के अवसर पर उपायुक्त, एडीएम, एसडीएम, चिकित्सकों तथा समाज के अन्य प्रबुद्ध व्यक्तियों के संदेश प्रसारित किये जाएंगे। नशे से बाहर निकल चुके व्यक्तियों के साक्षात्कार व अनुभवों को सोशल मीडिया के माध्यम से दूसरे लोगों को जागरूक बनाने के लिये प्रसारित किया जाएगा।

एडीएम ने कहा कि सप्लाई चेन को तोड़ने के लिये ठोस कदम उठाए जाएंगे। जिला में सभी हॉट-स्पॉट का पता लगाकर सख्त कारवाई की जाएगी। नशीले पदार्थों की आपूर्ति करने वालों पर कड़ी नजर रखी जाएगी और इसमें स्थानीय लोगों के सहयोग की अपील की गई है। हॉट स्पॉट की नियमित पेट्रोलिंग पुलिस करेगी। भांग अथवा अफीम की खेती को नष्ट करने के लिये प्रभावी कदम उठाए जाएंगे। दवा विक्रेताओं को अपनी दुकानों में सीसीटीवी स्थापित करने को कहा गया है और किसी