Breaking
पदमश्री विद्यानंद सरैक होंगे सिरमौर के जिला आईकन         अतिरिक्त व्यय पर्यवेक्षकों के लिए कार्यशाला आयोजित         राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर विजेताओं को कुलपति डाक्टर डी.के.वत्स ने किया पुरस्कृत         विद्यार्थियों ने बनाए चंद्रयान व सौर मंडल के मॉडल         परोल स्कूल में ‘स्वीप’ के तहत आयोजित किया गया जागरुकता कार्यक्रम         बालासुंदरी चैत्र नवरात्र मेला 9 अप्रैल से 23 अप्रैल 2024 तक अयोजित होगा-एल.आर.वर्मा         मतदान फीसद बढ़ाने के लिए योजना पूर्वक करें प्रयास : अपूर्व देवगन         कांगड़ा जिला में मतदाता जारूकता अभियान पर करेंगे विशेष फोक्स: डीसी         मेधा प्रोत्साहन योजना के अभ्यर्थियों की अस्थाई सूची जारी         राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खल्याणी में जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन         कुल्लू में विद्यालय मृदा स्वास्थय कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर का आयोजन         हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित         निर्वाचन के दृष्टिगत गठित टीमों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित         नवोदय विद्यालय में बताया मिट्टी के परीक्षण का महत्व         निर्वाचन प्रक्रिया के सुचारू निर्वहन में नोडल अधिकारियों की अहम भूमिका: डीसी         9 अप्रैल को आयोजित होंगी लोक अदालतें         31 मार्च 2024 तक निर्धारित लक्ष्य पूरा करें सभी विभाग-सुमित खिमटा         जीत से बड़ा मनोबल, इतिहास बदला : बिंदल         प्लांट एवं मशीनरी में 721.78 करोड़ रुपये का निवेश         राज्यपाल ने किया मातृवन्दना पत्रिका के विशेषांक का विमोचन

पारंपरिक जल स्रोतों व पानी की टंकियों का सफाई अभियान हुआ आरंभःडीसी

हिम न्यूज़,   ऊना, 15 जूनः जल जनित रोगों की रोकथाम के लिए जिला ऊना के सभी पारंपरिक जल निकायों जैसे बावड़ियां, कुएं, गैर आईपीएच पानी की टंकियों व स्कूल में बने पानी के टैंकों की साफ-सफाई का तीन दिवसीय विशेष अभियान आज से आरंभ हो गया।

इस बारे जानकारी देते हुए उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने कहा कि पहले दिन जिला ऊना की लगभग 150 ग्राम पंचायतों में पारंपरिक जल स्रोतों जैसे कि बावड़ियां व कुएं आदि की सफाई पंचायतों के माध्यम से की गई है। वहीं स्कूलों में लगाई गई पानी की टंकियों को साफ करने के निर्देश भी शिक्षा विभाग को दिए गए हैं और शिक्षण संस्थानों में टंकियां साफ की गई हैं। इसके अलावा जल शक्ति विभाग भी पानी के स्टोरेज टैंकों की सफाई का कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि बरसात के दिनों में अकसर जल जनित रोग से ग्रसित लोगों की संख्या में इजाफा देखने को मिलता है, इसलिए आवश्यक है कि हम सभी साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें।

राघव शर्मा ने कहा कि प्रदूषित जल पीने या भोजन पकाने में उसका प्रयोग करने से व्यक्ति जलजनित रोग व संक्रमण जैसे पेट के कीड़े, पीलिया, हेपेटाईटिस-ए, टायफायड, हैजा, दस्त इत्यादि से ग्रस्त हो सकता है। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में जलजनित रोगों का खतरा अधिक होता है। स्वच्छ पानी के लिए पानी शुद्ध करने वाल उपकरणों का प्रयोग करें और नियमित रुप से उनकी सर्विस व रखरखाव सुनिश्चित करें।