Breaking
चुनावों के लिये भाजपा नेताओं के पास कोई मुद्दा नही : संजय अवस्थी         मतदाता पहचान पत्र न होने पर वैकल्पिक दस्तावेज के साथ कर सकते हैं मतदान - उपायुक्त         कांगड़ा जिला में चार स्थान मतगणना के लिए प्रस्तावित - डीसी         कंगना की टिकट घोषित होने से कांग्रेस के सभी नेता परेशान : बिहारी लाल         आपदा के पैसे को लूटने का काम कांग्रेस ने किया : कंगना         नये वोटरों को किया जागरूक         न्याय पत्र में कांग्रेस पार्टी ने ओल्ड पेंशन स्कीम पर चुप्पी साधी : सहजल         राज्यपाल ने प्रदेश की प्रगति में योगदान देने वाले हाई फ्लायर्स को सम्मानित किया         उपायुक्त ने बल्ह विधानसभा के चार पोलिंग बूथों का किया निरीक्षण         पारंपरिक मेलों की तरह लोकतंत्र के पर्व में भी जरूर लें हिस्सा: डीसी         100 कि.मी. के ट्रेल में धावक 30 पंचायतों में देंगे मतदान के महत्व की जानकारी         9 उपचुनावों के लिए बिंदल ने तैनात किए चुनाव प्रभारी से प्रभारी और सहयोगी          हिमाचल को मोदी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में बनाया आत्मनिर्भर: अनुराग ठाकुर         स्व. बाबूराम की याद में लांच किया कैलेंडर         बसोआ पर्व के मौके पर यूनिवर्सिटी परिसर में किया गया खीर व पिंदड़ी वितरण         मुख्यमंत्री के कारण बिगड़ा सरकार का गणित : बलबीर वर्मा         एसडीएम ने जारी किया स्थानीय भाषा में तैयार मतदाता प्रेेरक साॅन्ग         वोटर कार्ड नहीं है तो वैकल्पिक दस्तावेज के साथ करें मतदान: डीसी         प्रदेश की भावी राजनीति की दिशा व दशा तय करेंगे यह चुनाव परिणाम : प्रतिभा सिंह         हमीरपुर के तीनों न्यायिक परिसरों में 11 मई को लगेंगी लोक अदालतें

स्थानीय जरुरतों और नए आइडिया के साथ बनाएं शैल्फ : हेमराज बैरवा

हिम न्यूज़,हमीरपुर । उपायुक्त हेमराज बैरवा ने जिला के सभी खंड विकास अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे मनरेगा कनवर्जेंस के कार्यों में स्थानीय जरुरतों के अनुसार तथा नए आइडियाज के साथ शैल्फ तैयार करवाएं।

शुक्रवार को जिला के सभी 6 विकास खंडों के बीडीओ के साथ बैठक के दौरान ग्रामीण विकास और पंचायतीराज विभाग की विभिन्न योजनाओं की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने कहा कि मनरेगा कनवर्जेंस में कई बड़े कार्य भी करवाए जा सकते हैं। इसलिए, सभी बीडीओ इस दिशा में विशेष प्रयास करें तथा पंचायत जनप्रतिनिधियों का मार्गदर्शन भी करें। उन्होंने कहा कि हर विकास खंड में मनरेगा कनवर्जेंस के मॉडल के रूप में कम से कम दो बड़े कार्य चिह्नित करके उन पर कार्य शुरू किया जाएगा। जिला में पानी की कमी वाले क्षेत्रों, विशेषकर भोरंज और बमसन ब्लॉक में जल संरक्षण से संबंधित योजनाओं पर कार्य किया जा सकता है।

इस अवसर पर मनरेगा की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने बताया कि गत वित्त वर्ष के दौरान इस योजना के तहत जिला हमीरपुर में 69 करोड़ रुपये से अधिक धनराशि खर्च की गई। इस दौरान कुल 16,89,732 श्रम दिवस अर्जित किए गए जोकि निर्धारित लक्ष्य का 101 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि मनरेगा के तहत लंबित कार्य अतिशीघ्र पूरे होने चाहिए तथा इनसे संबंधित डाटा भी तुरंत अपलोड किया जाना चाहिए। डाटा अपलोडिंग में कोई तकनीकी समस्या आ रही है तो तुरंत ध्यान में लाएं। उपायुक्त ने कहा कि जिले में 99.17 प्रतिशत जॉब काड्र्स की आधार लिंकेज हो चुकी है। उन्होंने शेष बचे जॉब काड्र्स की आधार लिंकेज, एनएमएमएस ऐप पर ऑनलाइन हाजिरी और सभी कामगारों की पेमेंट समय पर सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए।

हेमराज बैरवा ने बताया कि जिला में 15 जुलाई तक कुल 150 अमृत सरोवरों के निर्माण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इनमें से कुछ अमृत सरोवर जलशक्ति विभाग और वन विभाग द्वारा भी मनरेगा कनवर्जेंस के माध्यम से बनाए जाने हैं। उपायुक्त ने कहा कि इनके निर्माण अतिशीघ्र पूरे किए जाने चाहिए। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने कहा कि गत वित्त वर्ष के दौरान मिशन के तहत 4 करोड़ रुपये खर्च किए गए। उन्होंने कहा कि मिशन के तहत स्वीकृत सामुदायिक शौचालयों के निर्माण और इनकी वर्तमान स्थिति की रिपोर्ट 30 अप्रैल से पहले प्रेषित करें, ताकि इनकी समीक्षा की जा सके। बैठक में सांसद आदर्श ग्राम योजना, आवास योजनाओं, एनआरएलएम और अन्य योजनाओं की समीक्षा भी की गई। इस अवसर पर डीआरडीए के परियोजना अधिकारी राजकुमार ने विभिन्न योजनाओं का विस्तृत ब्यौरा प्रस्तुत किया। बैठक में एडीसी जितेंद्र सांजटा, सभी बीडीओ और अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।