Breaking
3 लाख से कम आय है तो ले सकते हैं मुफ्त कानूनी मदद         शास्त्री एवं भाषा अध्यापकों की भर्ती के लिए काउंसलिंग 26 व 27 फरवरी को         सिरमौर जिला में 28 और 29 फ़रवरी को  लगेंगी राजस्व लोक अदालतें-सुमित खिमटा         दैनिक आहार में मोटे अनाज को अवश्य शामिल करें         पंचायती राज संस्थाओं में रिक्त पदों के लिये उप-चुनाव 25 फरवरी को         चुनाव प्रक्रिया के दौरान सभी नोडल अधिकारियों की भूमिका अग्रणी और महत्वपूर्ण - अनुपम कश्यप         तीन दिवसीय राज्य स्तरीय छेश्चू मेला संपन्न         तंबोला की 13 लाख में हुई नीलामी         राजभवन में अरूणाचल प्रदेश और मिज़ोरम का स्थापना दिवस आयोजित         बिना बजट के योजनाएं घोषित करने वाले हवा-हवाई सीएम बने सुक्खू : जयराम ठाकुर         मुख्यमंत्री ने सेना के जवान के निधन पर शोक व्यक्त किया         मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के 15 टिप्परों को रवाना किया         हमने शिमला संसदीय क्षेत्र में पिछले 5 साल में 15000 करोड़ रुपए से अधिक के काम करवाए : कश्यप         2004 से 2014 तक कांग्रेस के 10 साल भ्रष्टाचार : बिंदल         जोगिन्दर नगर के रैंस भलारा की महिलाएं तैयार कर रही हैं विभिन्न तरह का आचार         जिला स्तरीय लोकगीत प्रतियोगिता के लिए पंजीकरण 26 तक         कांगड़ा और चंबा के युवाओं ने लिया राष्ट्रीय युवा संसद में भाग         प्रतिभा सिंह ने नाचन विधानसभा क्षेत्र में किए विभिन्न विकासात्मक कार्यों के शिलान्यास         आईपीएस अधिकारी राकेश सिंह ने संभाला एसपी ऊना का पदभार         कुपोषण की रोकथाम के लिए मिशन मोड में कार्य किया जाएगा - जतिन लाल

Alkanna Tinctoria रतनजोत एक गुणकारी औषधि है/ Benefits of home remedy

रतनजोत  का उपयोग बालों को काला करने के लिए किया जाता है. इसका उपयोग मसाले के रूप में भी किया जाता है.  रतनजोत के बालों के लिए चमत्कारी तथा अविसवस्नीय नुस्खे बताने जा रहे है. इन उपायों के बालों के लिए अदभुत फायदे है.  रतनजोत _ Alkanna Tinctoria एक गुणकारी औषधि है, जिसको अंजनकेशी, रक्तदल, महारंगा, महारंगी, लालजड़ी और दामिनी बालछड़ आदि कई नामों से जाना जाता है। रतनजोत के बीज से तेल भी निकाला जाता है।

जिसका उपयोग आँखों की रौशनी बढ़ाने, त्वचा का रूखापन दूर करने, दाद खाज और खुजली से छुटकारा दिलाने, पेट के कीड़ों को नष्ट करने, गुर्दे की पथरी से छुटकारा दिलाने और शरीर से ज़हरीले पदार्थों को दूर करने के लिए किया जाता है।

रतनजोत का उपयोग बालों की कई समस्याओं जैसे बालों का झड़ना, बालों का सफेद होना आदि में किया जाता है। इसके अलावा रक्त के शोधन के लिए भी रतनजोत इस्तेमाल की जाती है।

यह ज्यादातर हिमालय के जंगलों में पाया जाता है. यह प्रकृति की एक अनोखी देन है. पुराने समय से  इसका उपयोग आँखों की रौशनी को बढ़ाने के लिए किया जाता है.

बालो को काला करने के लिए भी यह उतना ही असरदार है. चलिए जानते है कि इस का बालों के लिए कैसे प्रयोग करें.

 

रतनजोत के फ़ायदे

1   गठिया रोग से परेशान है तो सरसों के तेल में रतनजोत डालकर हल्का गुनगुना करके इस तेल से मालिश करें। इससे गठिया रोग में बेहद आराम मिलेगा।

2  रतनजोत पौधे के पत्ते को पीसकर इसके रस को शहद के साथ मिलाकर चाटने से रक्त का शोधन होता है।

3  जिन लोगों को मिर्गी के दौरे पड़ते हों अगर वे लोग रतनजोत पौधे की जड़ को पीसकर इसके रस को नाक में टपका लें। इस उपचार को लगातार करने से मिर्गी के दौरे की समस्या दूर हो जाती है।

4 रतनजोत पौधे की पत्तियों को पानी में उबालकर चाय बनाकर पीने से हार्ट प्रॉब्लम व कई अन्य समस्याओं से बचे रहते हैं।

5  रतनजोत के चूर्ण को तेल में मिलाकर मालिश करने से त्वचा का रूखापन दूर हो जाता है। इसके अलावा इसके उपयोग से दाद और खुजली से भी छुटकारा मिल जाता है।

– अगर किसी व्यक्ति को गुर्दे में पथरी की समस्या है तो उसे नियमित रूप से रतनजोत के पत्तों का काढ़ा बनाकर पिलाएँ। इस उपचार को करने से पथरी ठीक हो जाती है।

बालों की देखभाल में रतनजोत का उपयोग

अगर बालों में सुंदर कलर चाहते हैं तो इस उपाय को ज़रूर ट्राई करें- मेहँदी में थोड़ा पानी डालकर घोल बना लें। फिर इसमें थोड़ा रतनजोत डालकर मिला लें। अब इसे गैस चूल्हे पर चढ़ाकर थोड़ा गर्म कर लें। जब यह गर्म हो जाए तब गैस बंद करके इसे ठंडा कर लें। जब यह ठंडा हो जाए तब इस पेस्ट को बालों में लगा लें। लगभग 20 मिनट के बाद सिर को पानी से धो लें।

बालों को झड़ने से बचाने और इन्हें मजबूत बनाने के लिए 50 ग्राम दही में, एक चुटकी हल्दी पाउडर, एक ग्राम काली मिर्च पाउडर और थोड़ा रतनजोत डालकर इन सभी को आपस में मिलाकर एक मिश्रण बना लें। अब इस मिश्रण को सिर में लगा लें। लगभग 20 मिनट बाद सिर को हल्के गुनगुने पानी से धो लें। इस घरेलू उपचार को सप्ताह में कम से कम एक बार ज़रूर ट्राई करें।

4 चम्मच आंवला चूर्ण में 1 चम्मच नींबू का रस और रतनजोत डालकर तैयार मिश्रण को बालों में लगा लें। लगभग 20 मिनट बाद सिर को धो लें। ऐसा करने से बाल काले हो जाते हैं।

रतनजोत का उपयोग करने के साथ-साथ आंवला और लौह चूर्ण को थोड़ा पानी डालकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को बालो में लगा लें और कुछ समय बाद सिर को धो लें। ऐसा सप्ताह में दो बार करने से सफेद बाल काले हो जाते हैं।