Breaking
3 लाख से कम आय है तो ले सकते हैं मुफ्त कानूनी मदद         शास्त्री एवं भाषा अध्यापकों की भर्ती के लिए काउंसलिंग 26 व 27 फरवरी को         सिरमौर जिला में 28 और 29 फ़रवरी को  लगेंगी राजस्व लोक अदालतें-सुमित खिमटा         दैनिक आहार में मोटे अनाज को अवश्य शामिल करें         पंचायती राज संस्थाओं में रिक्त पदों के लिये उप-चुनाव 25 फरवरी को         चुनाव प्रक्रिया के दौरान सभी नोडल अधिकारियों की भूमिका अग्रणी और महत्वपूर्ण - अनुपम कश्यप         तीन दिवसीय राज्य स्तरीय छेश्चू मेला संपन्न         तंबोला की 13 लाख में हुई नीलामी         राजभवन में अरूणाचल प्रदेश और मिज़ोरम का स्थापना दिवस आयोजित         बिना बजट के योजनाएं घोषित करने वाले हवा-हवाई सीएम बने सुक्खू : जयराम ठाकुर         मुख्यमंत्री ने सेना के जवान के निधन पर शोक व्यक्त किया         मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के 15 टिप्परों को रवाना किया         हमने शिमला संसदीय क्षेत्र में पिछले 5 साल में 15000 करोड़ रुपए से अधिक के काम करवाए : कश्यप         2004 से 2014 तक कांग्रेस के 10 साल भ्रष्टाचार : बिंदल         जोगिन्दर नगर के रैंस भलारा की महिलाएं तैयार कर रही हैं विभिन्न तरह का आचार         जिला स्तरीय लोकगीत प्रतियोगिता के लिए पंजीकरण 26 तक         कांगड़ा और चंबा के युवाओं ने लिया राष्ट्रीय युवा संसद में भाग         प्रतिभा सिंह ने नाचन विधानसभा क्षेत्र में किए विभिन्न विकासात्मक कार्यों के शिलान्यास         आईपीएस अधिकारी राकेश सिंह ने संभाला एसपी ऊना का पदभार         कुपोषण की रोकथाम के लिए मिशन मोड में कार्य किया जाएगा - जतिन लाल

विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस पर सिरमौर में लगाए 18000 पौधे

हिम न्यूज़, नाहन – विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस (वल्र्ड नेचर कंजर्वेशन डे) और आजादी का अमृत महोत्सव के तहत आज जिला सिरमौर की सभी पंचायतों और नगर परिषद नाहन, पांवटा साहिब तथा नगर पंचायत राजगढ़ क्षेत्र में पौधरोपण किया गया।

इस अभियान के तहत केवल एक दिन में पूरे जिला में लगभग 18000 पौधे रोपित किये गए जिसके तहत जिला की प्रत्येक पंचायत में 75-75 पौधे और नगर परिषद क्षेत्रों में 200 पौधे लगाए गए।

यह जानकारी देते हुए उपायुक्त सिरमौर राम कुमार गौतम ने बताया कि अभियान के तहत अतिरिक्त उपायुक्त मनेश कुमार यादव ने नाहन के शमशेर विला राउण्ड तथा नाहन खण्ड की ग्राम पंचायत अम्बवाला सैनवाला में पौधारोपण किया। इसके अतिरिक्त मनरेगा व स्वयं सहायता समूह की महिलाओं, पंचायात के पदाधिकारियों एवं नगर परिषद व नगर पंचायात के पदाधिकारियों और ग्रामिण विकास एवं पंचायति राज विभाग के कर्मचारियों ने जिला के 262 स्थानों पर पौधारोपण किया।

अभियान के तहत नाहन विकास खण्ड में 2550 पौधे, पच्छाद खण्ड में 2550 पौधे, शिलाई खण्ड में 2625 पौधे, संगडाह खण्ड में 2570 पौधे, पांवटा साहिब खण्ड में 2700 पौधे, तीलोरधार खण्ड में 1725 पौधे और राजगढ़ खण्ड में 2200 पौधे रोपित किए गए।

उन्होंने कहा कि आज के आधुनिकता के समय में प्रकृति का संरक्षण बेहद जरूरी है ताकि आने वाली पीढ़ी को भी स्वच्छ और सुंदर वातावरण मिल सके। प्रदूषण के कारण सारी पृथ्वी दूषित हो रही है जोकि मानव सभ्यता के लिए बेहद हानिकारक है।

उपायुक्त लोगों से प्लास्टिक व रसायनों का प्रयोग न करने, पानी का सदुपयोग करने और प्राकृतिक स्तोत्रों का सदुपयोग करने का सुझाव दिया।

उन्होंने मनरेगा, स्वयं सहायता समूह की सभी महिलाओं और पंचायती राज संस्थाओं के पदाधिकारियों का इस कार्य में योगदान करने पर धन्यवाद किया और उनसे इन पौधों की रक्षा करने का भी आवाहन किया।