Breaking
पदमश्री विद्यानंद सरैक होंगे सिरमौर के जिला आईकन         अतिरिक्त व्यय पर्यवेक्षकों के लिए कार्यशाला आयोजित         राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर विजेताओं को कुलपति डाक्टर डी.के.वत्स ने किया पुरस्कृत         विद्यार्थियों ने बनाए चंद्रयान व सौर मंडल के मॉडल         परोल स्कूल में ‘स्वीप’ के तहत आयोजित किया गया जागरुकता कार्यक्रम         बालासुंदरी चैत्र नवरात्र मेला 9 अप्रैल से 23 अप्रैल 2024 तक अयोजित होगा-एल.आर.वर्मा         मतदान फीसद बढ़ाने के लिए योजना पूर्वक करें प्रयास : अपूर्व देवगन         कांगड़ा जिला में मतदाता जारूकता अभियान पर करेंगे विशेष फोक्स: डीसी         मेधा प्रोत्साहन योजना के अभ्यर्थियों की अस्थाई सूची जारी         राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खल्याणी में जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन         कुल्लू में विद्यालय मृदा स्वास्थय कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर का आयोजन         हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित         निर्वाचन के दृष्टिगत गठित टीमों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित         नवोदय विद्यालय में बताया मिट्टी के परीक्षण का महत्व         निर्वाचन प्रक्रिया के सुचारू निर्वहन में नोडल अधिकारियों की अहम भूमिका: डीसी         9 अप्रैल को आयोजित होंगी लोक अदालतें         31 मार्च 2024 तक निर्धारित लक्ष्य पूरा करें सभी विभाग-सुमित खिमटा         जीत से बड़ा मनोबल, इतिहास बदला : बिंदल         प्लांट एवं मशीनरी में 721.78 करोड़ रुपये का निवेश         राज्यपाल ने किया मातृवन्दना पत्रिका के विशेषांक का विमोचन

जय राम ठाकुर ने किया रेशम बीज उत्पादन केन्द्र का शुभारम्भ

मुख्यमंत्री ने थुनाग में जय राम ठाकुर ने आज मण्डी जिला के सराज विधानसभा क्षेत्र के थुनाग में प्रदेश के दूसरे रेशम बीज उत्पादन केन्द्र का शुभारम्भ किया। यह केन्द्र हिमाचल प्रदेश में रेशम बीज उत्पादन की जरूरत को पूरा करने तथा रेशम कीट पालकों की आर्थिकी सुदृढ़ करने के उद्देश्य से स्थापित किया गया है।

उन्होंने सराज युवा खेल एवं सांस्कृतिक उत्सव-2022  के अन्तर्गत सांस्कृतिक प्रतियोगिता के समापन समारोह की अध्यक्षता भी की। इस अवसर पर एक विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य में लगभग 12 हजार किसान रेशम उत्पादन से जुड़े हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में 7500 औंस रेशम की जरूरत को पूरा करने के लिए राज्य के पहले रेशम बीज उत्पादन केन्द्र पालमपुर में 2500 औंस रेशम का उत्पादन किया जा रहा है। शेष 5000 औंस रेशम की जरूरत अब थुनाग रेशम बीज उत्पादन केन्द्र पूरा करेगा, जो इससे पूर्व आयात की जाती थी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बालीचौकी में 4.94 करोड़ रुपये की लागत से रेशम उद्यमिता विकास एवं नवोन्मेष केन्द्र का निर्माण कार्य अन्तिम चरण में है और यह उत्तरी भारत में अपनी तरह का पहला केन्द्र होगा।  सराज घाटी में रेशम उद्योग को बढ़ावा देने के लिए 2.5 करोड़ रुपये व्यय कर बागाचनौगी, सरोआ, धरोट, मुराह, ढीमकटारू में राजकीय रेशम केन्द्र का निर्माण कार्य पूरा होने वाला है।

उन्होंने कहा कि घाटी में  अनुसूचित जाति के 200 किसानों को रेशम कीट पालन गृह निर्माण के लिए डेढ़ लाख रुपये प्रति किसान की दर से तीन करोड़ रुपये तथा 200 किसानों को रेशम कीट पालन उपकरण के लिए 80 लाख रुपये की धनराशि उपलब्ध करवाई गई है।

इसके अतिरिक्त इस वर्ग के 200 किसानों को शहतूत पौधारोपण के लिए 28 लाख रुपये की राशि उपलब्ध करवाई जा रही है। इसके अतिरिक्त सामान्य वर्ग के 700 किसानों को शहतूत पौधरोपण तथा रेशम कीट पालन सामग्री खरीदने के लिए 50 लाख रुपये उपलब्ध करवाए गए है। उन्होंने कहा कि इन गतिविधियों से प्रदेश में रेशम उद्योग को बढ़ावा मिलने के साथ ही स्वरोजगार के अवसर भी सृजित होंगे।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने थुनाग में एचडीएफसी बैंक की शाखा का भी शुभारम्भ किया जो प्रदेश में बैंक की 84वीं शाखा है। उन्होंने कहा कि यह बैंक शाखा खुलने से लघु और सीमांत किसानों को घर-द्वार पर ऋण सुविधा उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ लाभार्थियों के खाते में डाला जाता है और ऐसे में आम लोगों के लिए भी यह लाभदायी रहेगी।