Breaking
पदमश्री विद्यानंद सरैक होंगे सिरमौर के जिला आईकन         अतिरिक्त व्यय पर्यवेक्षकों के लिए कार्यशाला आयोजित         राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर विजेताओं को कुलपति डाक्टर डी.के.वत्स ने किया पुरस्कृत         विद्यार्थियों ने बनाए चंद्रयान व सौर मंडल के मॉडल         परोल स्कूल में ‘स्वीप’ के तहत आयोजित किया गया जागरुकता कार्यक्रम         बालासुंदरी चैत्र नवरात्र मेला 9 अप्रैल से 23 अप्रैल 2024 तक अयोजित होगा-एल.आर.वर्मा         मतदान फीसद बढ़ाने के लिए योजना पूर्वक करें प्रयास : अपूर्व देवगन         कांगड़ा जिला में मतदाता जारूकता अभियान पर करेंगे विशेष फोक्स: डीसी         मेधा प्रोत्साहन योजना के अभ्यर्थियों की अस्थाई सूची जारी         राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खल्याणी में जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन         कुल्लू में विद्यालय मृदा स्वास्थय कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर का आयोजन         हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित         निर्वाचन के दृष्टिगत गठित टीमों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित         नवोदय विद्यालय में बताया मिट्टी के परीक्षण का महत्व         निर्वाचन प्रक्रिया के सुचारू निर्वहन में नोडल अधिकारियों की अहम भूमिका: डीसी         9 अप्रैल को आयोजित होंगी लोक अदालतें         31 मार्च 2024 तक निर्धारित लक्ष्य पूरा करें सभी विभाग-सुमित खिमटा         जीत से बड़ा मनोबल, इतिहास बदला : बिंदल         प्लांट एवं मशीनरी में 721.78 करोड़ रुपये का निवेश         राज्यपाल ने किया मातृवन्दना पत्रिका के विशेषांक का विमोचन

कोली समाज की पहचान और गरिमा को और भी ऊंचे स्तर पर ले जाएगी- राष्ट्रपति

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आज (14 मई, 2022) अखिल भारतीय कोली समाज के स्वर्ण जयंती समारोह को पूर्व में रिकॉर्ड किये गए वीडियो संदेश के माध्यम से संबोधित किया।

अपने संबोधन में, राष्ट्रपति ने कहा कि यदि वे व्यक्तिगत तौर पर सभा को संबोधित कर पाते, तो उन्हें अधिक प्रसन्नता होती। लेकिन अपने संवैधानिक दायित्वों के कारण, उन्हें जमैका और सेंट विंसेंट तथा ग्रेनाडाइन्स के साथ भारत के आपसी संबंधों को और मजबूत करने के लिए इन देशों की राजकीय यात्रा पर जाना पड़ा।

अखिल भारतीय कोली समाज की स्थापना के बाद से अपने पुराने संबंधों को याद करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इस समाज का स्वर्ण जयंती समारोह व्यक्तिगत रूप से उनके लिए बहुत संतोषजनक और एक सुखद उपलब्धि है। किसी भी संगठन का गठन करने और इसका विस्तार करने के लिए बहुत मेहनत और समर्पण की आवश्यकता होती है। इसलिए हम सभी के लिए यह गर्व की बात है कि हम सब मिलकर आगे बढ़ते हुए आज अखिल भारतीय कोली समाज की स्वर्ण जयंती मना रहे हैं। अधिक संतोष इस बात का है कि इस समाज के सदस्यों ने समाज और राष्ट्र की प्रगति में अपना बहुमूल्य योगदान दिया है।

राष्ट्रपति ने कहा कि हमारी पिछली पीढ़ियों के दूरदर्शी लोगों ने समाज को दिशा देने के लिए छोटे-छोटे कदम उठाए। बाद की पीढ़ियां और आगे बढ़ीं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि युवा पीढ़ी कोली समाज की पहचान और गरिमा को और भी ऊंचे स्तर पर ले जाएगी तथा संगठन के सदस्य आधुनिकता, संवेदनशीलता, मानवता की सेवा और देशभक्ति की मिसाल पेश करते रहेंगे। उन्होंने कोली समाज के प्रत्येक सदस्य से यह संकल्प लेने का आग्रह किया कि वे न केवल हमारे समाज की प्रतिष्ठा को बढ़ाएंगे बल्कि राष्ट्र निर्माण में भी योगदान देते रहेंगे।