Breaking
पदमश्री विद्यानंद सरैक होंगे सिरमौर के जिला आईकन         अतिरिक्त व्यय पर्यवेक्षकों के लिए कार्यशाला आयोजित         राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर विजेताओं को कुलपति डाक्टर डी.के.वत्स ने किया पुरस्कृत         विद्यार्थियों ने बनाए चंद्रयान व सौर मंडल के मॉडल         परोल स्कूल में ‘स्वीप’ के तहत आयोजित किया गया जागरुकता कार्यक्रम         बालासुंदरी चैत्र नवरात्र मेला 9 अप्रैल से 23 अप्रैल 2024 तक अयोजित होगा-एल.आर.वर्मा         मतदान फीसद बढ़ाने के लिए योजना पूर्वक करें प्रयास : अपूर्व देवगन         कांगड़ा जिला में मतदाता जारूकता अभियान पर करेंगे विशेष फोक्स: डीसी         मेधा प्रोत्साहन योजना के अभ्यर्थियों की अस्थाई सूची जारी         राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खल्याणी में जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन         कुल्लू में विद्यालय मृदा स्वास्थय कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर का आयोजन         हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित         निर्वाचन के दृष्टिगत गठित टीमों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित         नवोदय विद्यालय में बताया मिट्टी के परीक्षण का महत्व         निर्वाचन प्रक्रिया के सुचारू निर्वहन में नोडल अधिकारियों की अहम भूमिका: डीसी         9 अप्रैल को आयोजित होंगी लोक अदालतें         31 मार्च 2024 तक निर्धारित लक्ष्य पूरा करें सभी विभाग-सुमित खिमटा         जीत से बड़ा मनोबल, इतिहास बदला : बिंदल         प्लांट एवं मशीनरी में 721.78 करोड़ रुपये का निवेश         राज्यपाल ने किया मातृवन्दना पत्रिका के विशेषांक का विमोचन

आईएफएस अधिकारी अपनी वैश्विक उपस्थिति का लाभ उठाएं-रेड्डी

उत्तर पूर्वी क्षेत्र, पर्यटन और संस्कृति विकास मंत्री,  जी. किशन रेड्डी ने विदेश मंत्रालय और इन्वेस्ट इंडिया द्वारा आयोजित किए गए ‘भारतीय विदेश सेवा के अधिकारियों की गोलमेज बैठक’ को संबोधित किया।

इस सम्मेलन में केंद्र सरकार के कई गणमान्य व्यक्तियों, राजनयिकों, वरिष्ठ अधिकारियों और विभिन्न क्षेत्रों के निवेशकों ने अपनी उपस्थिति दर्ज की। मंत्री ने उत्तर पूर्व क्षेत्र में सकारात्मक विकासोन्मुख माहौल स्थापित होने के कारण निवेशकों के लिए बढ़ते हुए अवसरों की बात की।

उन्होंने कहा कि हाल ही में 28 अप्रैल से 4 मई तक आयोजित किए गए आजादी का अमृत महोत्सव- एनई महोत्सव ने कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर बातचीत की शुरूआत करने में मदद की है और यह नीति निर्माताओं और आम नागरिकों के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण साबित हुआ है।

उन्होंने आगे कहा कि चर्चा के दौरान, इस क्षेत्र को मजबूती प्रदान करने के लिए मौलिक रूप से दो पहलू उभर कर सामने आए- सार्वजनिक निजी भागीदारी की ज्यादा से ज्यादा जरूरत और पर्यटन, जैविक खेती, कृषि, बागवानी, फूलों की खेती, वस्त्र, हस्तशिल्प, आईटी क्षेत्र, बीपीओ और सेवा उद्योग जैसे क्षेत्र की अंतर्निहित क्षमता का दोहन, सभी जगहों के लिए आम पाया गया।

मंत्री ने यह भी कहा कि उत्तर पूर्व के उत्पादों की बहुत ज्यादा मांग है और उत्तर पूर्व क्षेत्र में विदेशी निवेशकों की दिलचस्पी भी है लेकिन यहां पर जागरूकता की कमी है और बहुत सारी भ्रांतियां भी मौजूद हैं।

उन्होंने इस बात पर भी बल दिया कि आईएफएस अधिकारियों को उत्तर पूर्व भारत की ओर रुख करने के लिए वैश्विक निवेश समुदाय और उद्योग को उत्प्रेरित करना चाहिए। मंत्री ने कहा कि हमारा देश सामूहिक प्रयासों द्वारा अमृत काल का अधिकतम लाभ प्राप्त कर सकता है,

विदेश मंत्रालय और इन्वेस्ट इंडिया द्वारा इस कार्यक्रम का आयोजन वरिष्ठ आईएफएस अधिकारियों के लिए मिड-करियर प्रशिक्षण कार्यक्रम के भाग के रूप में किया गया। इंटरैक्टिव सत्र में ब्रांड इंडिया का निर्माण करने की दिशा में निवेश संवर्धन और सरकार के अन्य पहलों को शामिल किया गया।