Breaking
पदमश्री विद्यानंद सरैक होंगे सिरमौर के जिला आईकन         अतिरिक्त व्यय पर्यवेक्षकों के लिए कार्यशाला आयोजित         राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर विजेताओं को कुलपति डाक्टर डी.के.वत्स ने किया पुरस्कृत         विद्यार्थियों ने बनाए चंद्रयान व सौर मंडल के मॉडल         परोल स्कूल में ‘स्वीप’ के तहत आयोजित किया गया जागरुकता कार्यक्रम         बालासुंदरी चैत्र नवरात्र मेला 9 अप्रैल से 23 अप्रैल 2024 तक अयोजित होगा-एल.आर.वर्मा         मतदान फीसद बढ़ाने के लिए योजना पूर्वक करें प्रयास : अपूर्व देवगन         कांगड़ा जिला में मतदाता जारूकता अभियान पर करेंगे विशेष फोक्स: डीसी         मेधा प्रोत्साहन योजना के अभ्यर्थियों की अस्थाई सूची जारी         राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खल्याणी में जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन         कुल्लू में विद्यालय मृदा स्वास्थय कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर का आयोजन         हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित         निर्वाचन के दृष्टिगत गठित टीमों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित         नवोदय विद्यालय में बताया मिट्टी के परीक्षण का महत्व         निर्वाचन प्रक्रिया के सुचारू निर्वहन में नोडल अधिकारियों की अहम भूमिका: डीसी         9 अप्रैल को आयोजित होंगी लोक अदालतें         31 मार्च 2024 तक निर्धारित लक्ष्य पूरा करें सभी विभाग-सुमित खिमटा         जीत से बड़ा मनोबल, इतिहास बदला : बिंदल         प्लांट एवं मशीनरी में 721.78 करोड़ रुपये का निवेश         राज्यपाल ने किया मातृवन्दना पत्रिका के विशेषांक का विमोचन

विपणन व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण के लिए 250 करोड़ रुपये होंगे खर्च-वीरेन्द्र कंवर

प्रदेश में  किसानों, बागवानों, फूल उत्पादकों का माल विभिन्न मण्डियों में भेजने व विपणन व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण के लिए लगभग 250 करोड़ रुपये व्यय किए जा रहे हैं। यह विचार आज ग्रामीण विकास, पंचायती राज, कृषि, पशुपालन और मत्स्य पालन मंत्री वीरेन्द्र कंवर ने ढली सब्जी मण्डी के समीप निर्मित किसान भवन को सुविधा सम्पन्न बनाने के उपरांत किसानों व बागवानों को उपयोग के लिए समर्पित करने के उपरांत उपस्थित जन समूह को संबोधित करते हुए व्यक्त किए।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए अनेक योजनाएं चला कर किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है, जिसके तहत 1 लाख 70 हजार किसानों ने प्रदेश में प्राकृतिक खेती को अपनाया है।

उन्हांने बताया कि प्राकृतिक खेती के तहत किसान अपना माल उपभोक्ता तक पहुंचा सके इसके लिए एपीएमसी के तहत प्रदेश में 10 मण्डियों की व्यवस्था की जाएगी।

फूल उत्पादकों को माल बेचने के लिए परवाणू में मण्डी आरम्भ की है, जिसमें मई माह से विपणन व विनिमय कार्य आरम्भ होगा। उन्होंने कहा कि बजट में संभावित अन्य मण्डी ऊना में खोली जाएगी ताकि फूल उत्पादक किसान को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े।

उन्होंने कहा कि इनाम (राष्ट्रीय कृषि विपणन) व्यवस्था पूरे प्रदेश में लागू हो किसान, बागवान इसे अपनाएं, इसके लिए सम्मिलित प्रयास आवश्यक है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में अभियान चलाकर किसानों व बागवानों को जागरूक किया जाएगा ताकि उन्हें उचित विपणन बाजार मिल सके।

उन्होंने आज इनाम योजना के अंतर्गत उत्कृष्ट कार्य करने के लिए फल मण्डी सोलन को प्राप्त प्राइम मिनिस्टर अवार्ड फाॅर एक्सीलेंस इन पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन 2019 प्राप्त करने के लिए बधाई दी तथा फल मण्डी सोलन के पदाधिकारियों व अन्य कर्मचारियों को सम्मानित किया, जिसके तहत अध्यक्ष एपीएमसी सोलन संजीव कश्यप, सचिव एपीएमसी सोलन रविन्द्र कुमार शर्मा, निदेशक कृषि डाॅ. नरेन्द्र धीमान, प्रबंध निदेशक हिमाचल प्रदेश राज्य कृषि विपणन बोर्ड नरेश ठाकुर, एनालिस्ट सोलन विकास कश्यप, एनालिस्ट ईनाम मण्डी सोलन लेब एसायर भूपेन्द्र ठाकुर, डाटा एंट्री आपरेटर कैथरीन, रूपा सूद दारूनी, व्यापारी पदम सिंह पुंडिर, हेम चंद शर्मा तथा किसान सतपाल व हिमाचल प्रदेश राज्य कृषि विपणन बोर्ड के मार्किंटिंग अधिकारी अनिल शर्मा, परियोजना प्रबंधक दिशा गुप्ता व राज्य समन्वयक अंकुश सोलंकी तथा प्रधान आढ़ती ऐसोसिएशन ढली पराला मण्डी हरिश ठाकुर शामिल है।

उन्होंने  हिमाचल प्रदेश राज्य कृषि विपणन बोर्ड द्वारा विपणन से संबंधित गतिविधियों के प्रकाशन के लिए विपणन संदेश के दूसरे संस्करण का विमोचन किया।
कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश राज्य कृषि विपणन बोर्ड के अध्यक्ष बलदेव भंडारी ने अपने संबोधन में कहा कि पदभार संभालते ही

उन्होंने प्रदेश की विभिन्न मंडियों की खराब हालत को सुधारने के लिए 48 करोड़ रुपये व्यय किए। उन्होंने बताया कि अभी तक 61 मण्डियों को स्तरोन्नत किया गया है, जिनमें 21 नई मण्डियां निर्मित की गई है। उन्होंने बताया कि विश्व बैंक के सहयोग से परवाणू में बड़ी मण्डियों का निर्माण कार्य किया जाएगा, इसके अतिरिक्त पराला में 60 करोड़ रुपये से सीए स्टोर बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में अनाज के लिए 11 अनाज मण्डियां की शुरुआत भी की गई है, जिससे अनाज उत्पादकों को सुविधा होगी।

एपीएमसी शिमला के अध्यक्ष नरेश शर्मा ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा शिमला में बागवानों, किसानों के लिए विपणन व अन्य कार्यों का उल्लेख किया।
हिमाचल प्रदेश राज्य कृषि विपणन बोर्ड के प्रबंध निदेशक नरेश ठाकुर ने भी अपने विचार रखे तथा बोर्ड द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में किए जा रहे कार्यों का उल्लेख किया।

इस अवसर पर उप-महापौर नगर निगम शिमला शैलेन्द्र चैहान, गुड़िया सक्षम बोर्ड की उपाध्यक्ष रूपा शर्मा, पार्षद कमलेश मेहता, रेनु, राजेन्द्र चैहान, सभी जिलों के एपीएमसी अध्यक्ष एवं सचिव, मण्डलाध्यक्ष कुसुम्पटी जितेन्द्र भोटका, इस क्षेत्र से प्रत्याशी रहे विजय ज्योति सैन व बड़ी संख्या में किसान, बागवान उपस्थित थे।