Breaking
डाक मतपत्र से वोट डाल सकेंगे आवश्यक सेवाओं में लगे मतदाता: डीसी         बैलेट पेपर एवं पोस्टल बैलेट पेपर प्रिंट करने के संबंध में बैठक आयोजित         उपायुक्त ने बीडीओ टूटू अनमोल को यूपीएससी परीक्षा पास करने पर दी बधाई         आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद 7.85 करोड़ रुपये की जब्ती         अग्निवीर की ऑनलाइन परीक्षा 22 अप्रैल से         अपनी खीज मिटाने में जुटे कांग्रेस नेता - बिंदल         दुर्गाष्टमी के अवसर पर राजभवन में फलाहार ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन         बिजली रहेगी गुल         कांग्रेस पार्टी की नियत में खोट, 1500 महिलाओं को देना की इच्छा नहीं : त्रिलोक         भाजपा का संकल्प पत्र मोदी की गारंटी : बिंदल         बायोलचिम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने किया किसान संगोष्ठी का सफल आयोजन         भाजपा संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने कार्यकर्ताओं को चुनावी टिप्स         कंगना के साथ भाजपा नेता जयराम ठाकुर ने की दलाई लामा से मुलाकात         मतदाता पहचान पत्र बनाने के लिए नए मतदाता 4 मई तक कर सकते हैं आवेदन         आधुनिक हिमाचल के निर्माण में स्व. वीरभद्र सिंह ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका : यशवंत छाजटा         केंद्रीय विद्यालय सलोह में रिक्तियों के लिए आवेदन 25 अप्रैल तक         आवश्यक सेवाओं से जुड़े अधिकारी व कर्मचारी पोस्टल बेल्ट सुविधा से कर सकेंगे मतदान         परस राम धीमान और समर्थकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह से की मुलाकात         राहुल गाँधी की न्याय गारंटियों का प्रदेशभर में प्रचार करेंगी एनएसयूआई         भाजपा ने 1500 रुपये रुकवाकर महिलाओं को किया अपमानित : कांग्रेस

हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित

हिम न्यूज़,कुल्लू-कुल्लू हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित तीन दिवसीय  कुल्लू साहित्य उत्सव का शुभारंभ देवसदन कुल्लू में हुआ जिसकी अध्यक्षता करते उपायुक्त तोरूल एस रवीश ने कहा कि साहित्य की प्रासंगिकता आज भी उतनी ही जितनी पूर्वकाल में थी समय के साथ इसमें बदलाव आते रहे ।साहित्य देश ,विश्व की हर कड़ी को जोड़ता है   काल व इतिहास को संकलित करता है।

इन्होंने आधुनिक सूचना तकनीक के युग में साहित्य पठन पाठन के महत्व पर बल दिया तथा बच्चों में बाल्यकाल से ही पाठ्यक्रम पुस्तकों के पढ़ने के साथ अन्य पुस्तकें पढ़ने पर बल दिया।उन्होने समाज में साहित्य के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि निरन्तर अध्ययनरत रहना न केवल हमारे बौद्धिक विकास को बढ़ाता है बल्कि हमें समाज के प्रति संवेदनशील भी बनाता है।

आधुनिक युग में जब पाठक डिजिटल माध्यम के प्रति अधिक आकृष्ट हो रहें हैं ऐसे में भी पुस्तक पाठन लेखन की प्रासंगिकता ओर बढ़ गई है। डा शेखर पाठक ने पहाड़ की चिंताए व हिमालय विषय पर अपने शोधपूर्वक विचार रखे।बजरंग बिहारी तिवारी ने दलित विमर्श पर अपने विचार व्यक्त किए।हिमतरु प्रकाशन समिति  अध्यक्ष किसन श्रीमान ने मुख्य अतिथि व अन्य गणमान्य का स्वागत किया।इस अवसर पर  कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश सहित  देश के विभिन्न क्षेत्रों से आए साहित्यकार उपस्थित रहे।