Breaking
3 लाख से कम आय है तो ले सकते हैं मुफ्त कानूनी मदद         शास्त्री एवं भाषा अध्यापकों की भर्ती के लिए काउंसलिंग 26 व 27 फरवरी को         सिरमौर जिला में 28 और 29 फ़रवरी को  लगेंगी राजस्व लोक अदालतें-सुमित खिमटा         दैनिक आहार में मोटे अनाज को अवश्य शामिल करें         पंचायती राज संस्थाओं में रिक्त पदों के लिये उप-चुनाव 25 फरवरी को         चुनाव प्रक्रिया के दौरान सभी नोडल अधिकारियों की भूमिका अग्रणी और महत्वपूर्ण - अनुपम कश्यप         तीन दिवसीय राज्य स्तरीय छेश्चू मेला संपन्न         तंबोला की 13 लाख में हुई नीलामी         राजभवन में अरूणाचल प्रदेश और मिज़ोरम का स्थापना दिवस आयोजित         बिना बजट के योजनाएं घोषित करने वाले हवा-हवाई सीएम बने सुक्खू : जयराम ठाकुर         मुख्यमंत्री ने सेना के जवान के निधन पर शोक व्यक्त किया         मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के 15 टिप्परों को रवाना किया         हमने शिमला संसदीय क्षेत्र में पिछले 5 साल में 15000 करोड़ रुपए से अधिक के काम करवाए : कश्यप         2004 से 2014 तक कांग्रेस के 10 साल भ्रष्टाचार : बिंदल         जोगिन्दर नगर के रैंस भलारा की महिलाएं तैयार कर रही हैं विभिन्न तरह का आचार         जिला स्तरीय लोकगीत प्रतियोगिता के लिए पंजीकरण 26 तक         कांगड़ा और चंबा के युवाओं ने लिया राष्ट्रीय युवा संसद में भाग         प्रतिभा सिंह ने नाचन विधानसभा क्षेत्र में किए विभिन्न विकासात्मक कार्यों के शिलान्यास         आईपीएस अधिकारी राकेश सिंह ने संभाला एसपी ऊना का पदभार         कुपोषण की रोकथाम के लिए मिशन मोड में कार्य किया जाएगा - जतिन लाल

नदियों-नालों के किनारे कैंप साइट्स बंद करने के निर्देश

 हिम न्यूज़, मंडी। जिला दंडाधिकारी अरिंदम चौधरी ने मंडी जिले में नदियों-नालों के किनारे और भूस्खलन संभावित क्षेत्रों से सटे सभी स्थलों पर आगामी आदेश तक कैंप साइट्स बंद करने-हटाने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने जान-माल की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 30 एवं 34 के तहत इसे लेकर आदेश जारी किए हैं। हालांकि, यह आदेश उन शिविर स्थलों पर लागू नहीं होंगे, जिन्हें जिले में विभिन्न ट्रैकिंग मार्गों पर पारंपरिक और ऐतिहासिक रूप से मान्यता दी गई है।
ऐसी कैंप साइट्स को लेकर वन विभाग परिस्थिति अनुरूप निर्णय लेगा। इसके अलावा जिले में राफ्टिंग, कयाकिंग आदि सहित सभी प्रकार के वाटर स्पोर्टस, एडवेंचर गतिविधियों को भी अगले आदेश तक प्रतिबंधित कर दिया गया है।

जिले में भारी बरसात के मद्देनजर भूस्खलन की घटनाएं, फ्लैश फ्लड, बादल फटने के खतरे से किसी प्रकार की अप्रिय दुर्घटना से बचाव के लिए ये कदम एहतियात बरतते हुए उठाए गए हैं। जिला दंडाधिकारी ने लोगों से बरसात के मौसम में नदी, नालों, खड्डों, भूस्खलन संभावित क्षेत्रों इत्यादि प्रतिबंधित क्षेत्र में न जाने की अपील की है।

अरिंदम चौधरी ने संबंधित विभागों को आदेश दिए हैं कि जिले में किसी भी व्यक्ति को नदी, नाले के बाढ़ स्तर के करीब अथवा जहां पर भूस्खलन आदि की संभावना हो ऐसी किसी भी साइट पर जाने की अनुमति न दें।

जिले में संबंधित विभाग अपने-अपने क्षेत्र में उपर्युक्त आदेशों की अनुपालना कराना सुनिश्चित बनाएं। आदेशों के कार्यान्वयन में कोई व्यक्ति बाधा या अवरोध उत्पन्न करता है, पालन करने से इंकार करता है, ऐसे व्यक्ति के खिलाफ उपयुक्त कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

 

19 जुलाई को बाधित रहेगी विद्युत आपूर्ति
मंडी। विद्युत विभाग मंडी के सहायक अभिन्ता सुनील शर्मा ने बताया कि विद्युत अनुभाग तल्याहड़ के अंतर्गत आने वाले गज्नोहा, लोहारडी, रंधाड़ा, सीरम, तांदी, पत्रौन, कोठी गहरी, रत्ती पुल, गडल, जोला व जनेड के आसपास के क्षेत्र में 19 जुलाई मंगलवार को प्रातः 10 बजे से दोपहर बाद 2 बजे तक विद्युत आपूर्ति बाधित रहेगी। इस दौरान विभाग एच.टी. लाइन को बदलने का कार्य करेगा। बारिश की स्थिति में यह कार्य अगले दिन किया जाएगा। सहायक अभियन्ता ने स्थानीय लोगों से सहयोग की अपील की है।

.