Breaking
डाक मतपत्र से वोट डाल सकेंगे आवश्यक सेवाओं में लगे मतदाता: डीसी         बैलेट पेपर एवं पोस्टल बैलेट पेपर प्रिंट करने के संबंध में बैठक आयोजित         उपायुक्त ने बीडीओ टूटू अनमोल को यूपीएससी परीक्षा पास करने पर दी बधाई         आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद 7.85 करोड़ रुपये की जब्ती         अग्निवीर की ऑनलाइन परीक्षा 22 अप्रैल से         अपनी खीज मिटाने में जुटे कांग्रेस नेता - बिंदल         दुर्गाष्टमी के अवसर पर राजभवन में फलाहार ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन         बिजली रहेगी गुल         कांग्रेस पार्टी की नियत में खोट, 1500 महिलाओं को देना की इच्छा नहीं : त्रिलोक         भाजपा का संकल्प पत्र मोदी की गारंटी : बिंदल         बायोलचिम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने किया किसान संगोष्ठी का सफल आयोजन         भाजपा संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने कार्यकर्ताओं को चुनावी टिप्स         कंगना के साथ भाजपा नेता जयराम ठाकुर ने की दलाई लामा से मुलाकात         मतदाता पहचान पत्र बनाने के लिए नए मतदाता 4 मई तक कर सकते हैं आवेदन         आधुनिक हिमाचल के निर्माण में स्व. वीरभद्र सिंह ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका : यशवंत छाजटा         केंद्रीय विद्यालय सलोह में रिक्तियों के लिए आवेदन 25 अप्रैल तक         आवश्यक सेवाओं से जुड़े अधिकारी व कर्मचारी पोस्टल बेल्ट सुविधा से कर सकेंगे मतदान         परस राम धीमान और समर्थकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह से की मुलाकात         राहुल गाँधी की न्याय गारंटियों का प्रदेशभर में प्रचार करेंगी एनएसयूआई         भाजपा ने 1500 रुपये रुकवाकर महिलाओं को किया अपमानित : कांग्रेस

नवोदय विद्यालय में बताया मिट्टी के परीक्षण का महत्व

हिम न्यूज़ हमीरपुर । कृषि विभाग की महत्वाकांक्षी योजना मृदा (मिट्टी) स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत चयनित पायलट प्रोजेक्ट स्कूल जवाहर नवोदय विद्यालय डूंगरी में एक जागरुकता कार्यक्रम आयोजित किया गया और मृदा पोर्टल पर इस विद्यालय का पंजीकरण भी किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए हमीरपुर के मृदा परीक्षण अधिकारी डॉ. अजय कुमार चोपड़ा ने बच्चों को मिट्टी के स्वास्थ्य और इसमें पाए जाने वाले विभिन्न पोषक तत्वों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि जमीन से अच्छी पैदावार प्राप्त करने के लिए किसानों को मिट्टी के स्वास्थ्य के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए और इसके लिए मिट्टी का परीक्षण बहुत जरूरी है।

कार्यक्रम के दौरान विद्यालय के विद्यार्थियों और शिक्षकों को मिट्टी के नमूने लेने और मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के बारे में भी तकनीकी जानकारी दी गई। उप परियोजना निदेशक डॉ. राजेश शर्मा ने भी विद्यार्थियों और शिक्षकों को मृदा स्वास्थ्य के विभिन्न पहलुओं से अवगत करवाया। जबकि, कृषि प्रसार अधिकारी डॉ. अंशिता शर्मा ने मिट्टी के नमूने लेने की विधि समझाई। कार्यक्रम में विद्यालय के लगभग 45 विद्यार्थियों और 6 शिक्षकों ने भाग लिया।