Breaking
चुनावों के लिये भाजपा नेताओं के पास कोई मुद्दा नही : संजय अवस्थी         मतदाता पहचान पत्र न होने पर वैकल्पिक दस्तावेज के साथ कर सकते हैं मतदान - उपायुक्त         कांगड़ा जिला में चार स्थान मतगणना के लिए प्रस्तावित - डीसी         कंगना की टिकट घोषित होने से कांग्रेस के सभी नेता परेशान : बिहारी लाल         आपदा के पैसे को लूटने का काम कांग्रेस ने किया : कंगना         नये वोटरों को किया जागरूक         न्याय पत्र में कांग्रेस पार्टी ने ओल्ड पेंशन स्कीम पर चुप्पी साधी : सहजल         राज्यपाल ने प्रदेश की प्रगति में योगदान देने वाले हाई फ्लायर्स को सम्मानित किया         उपायुक्त ने बल्ह विधानसभा के चार पोलिंग बूथों का किया निरीक्षण         पारंपरिक मेलों की तरह लोकतंत्र के पर्व में भी जरूर लें हिस्सा: डीसी         100 कि.मी. के ट्रेल में धावक 30 पंचायतों में देंगे मतदान के महत्व की जानकारी         9 उपचुनावों के लिए बिंदल ने तैनात किए चुनाव प्रभारी से प्रभारी और सहयोगी          हिमाचल को मोदी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में बनाया आत्मनिर्भर: अनुराग ठाकुर         स्व. बाबूराम की याद में लांच किया कैलेंडर         बसोआ पर्व के मौके पर यूनिवर्सिटी परिसर में किया गया खीर व पिंदड़ी वितरण         मुख्यमंत्री के कारण बिगड़ा सरकार का गणित : बलबीर वर्मा         एसडीएम ने जारी किया स्थानीय भाषा में तैयार मतदाता प्रेेरक साॅन्ग         वोटर कार्ड नहीं है तो वैकल्पिक दस्तावेज के साथ करें मतदान: डीसी         प्रदेश की भावी राजनीति की दिशा व दशा तय करेंगे यह चुनाव परिणाम : प्रतिभा सिंह         हमीरपुर के तीनों न्यायिक परिसरों में 11 मई को लगेंगी लोक अदालतें

राज्यपाल ने सरदार पटेल विश्वविद्यालय और राजकीय आयुर्विज्ञान महाविद्यालय का दौरा किया

हिम न्यूज़ , मंडी- राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ आर्लेकर ने आज मंडी स्थित सरदार पटेल विश्वविद्यालय के प्राध्यापकों से संवाद करते हुए कहा कि समाज की सोच विश्वविद्यालय की स्थिति में प्रतिबिम्बित होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि नालंदा और तक्षशिला को इन विश्वविद्यालयों के शैक्षणिक वातावरण व इन संस्थानों के प्राध्यापकों ने विश्व विख्यात बनाया।

उन्होंने सराहना करते हुए कहा कि अस्तित्व में आने की छोटी सी अवधि में ही यह विश्वविद्यालय विकसित हुआ है। उन्होंने कहा कि हमें देश को आगे बढ़ाने के लिए स्वयं को सक्षम बनाना होगा और समाज को सही दिशा दिखाना शिक्षकों का कर्त्तव्य है।

राज्यपाल ने कहा कि विभिन्न दृष्टिकोण विकसित करते हुए इसी भावना के साथ कार्य करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अपने दायित्व का निर्वहन करने की भावना आपके भीतर से जागृत होनी चाहिए।

इस अवसर पर सरदार पटेल मंडी के कुलपति प्रोफेसर डी.डी. शर्मा ने राज्यपाल का स्वागत किया और विश्वविद्यालय की गतिविधियों के संबंध में विस्तृत जानकारी प्रदान की।

इसके उपरान्त राज्यपाल ने श्री लाल बहादुर शास्त्री आयुर्विज्ञान महाविद्यालय, नेरचौक (मंडी) का दौरा किया और महाविद्यालय परिसर में पौधरोपण भी किया।

इस अवसर पर राजेन्द्र विश्वनाथ आर्लेकर ने कहा कि हमें समाज की आवश्यकताओं के प्रति केन्द्रित होना चाहिए और आज इस पर अधिक जोर दिया जाना चाहिए। उन्होंने इस अवसर पर आयुर्विज्ञान महाविद्यालय में उपस्थित डॉक्टरों, प्रशिक्षु डॉक्टरों को संबोधित करते हुए कहा कि वे मानवता की सेवा कर रहे हैं और गरीबों तथा वंचितों को बेहतर उपचार सुविधाएं प्रदान करना हमारी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि एलोपेथी व आयुर्विज्ञान चिकित्सा पद्धति का समायोजन कर हमें रोगियों को बेहतर उपचार सुविधाएं उपलब्ध करवानी चाहिए।

डॉ. देवदत्त शर्मा जिनके पास संस्थान के कुलपति का अतिरिक्त प्रभार भी है, ने इस अवसर पर राज्यपाल को सम्मानित किया। उन्होंने इस अवसर पर स्वागत भाषण दिया और संस्थान का दौरा करने के लिए राज्यपाल का आभार प्रकट किया।

संस्थान के पंजीयक अमर नेगी ने संस्थान द्वारा संचालित की जा रही विभिन्न गतिविधियों से संबंधित एक प्रस्तुति भी दी।

राज्यपाल ने मंडी के सुन्दरनगर में जिला रेडक्रॉस सोसाइटी द्वारा संचालित डायलसिस केंद्र का भी दौरा किया। उन्होंने इस अवसर पर रोगियों से बातचीत की और रोगियों को प्रदान की जा रही सुविधाओं के संबंध में जानकारी ली।