Breaking
पदमश्री विद्यानंद सरैक होंगे सिरमौर के जिला आईकन         अतिरिक्त व्यय पर्यवेक्षकों के लिए कार्यशाला आयोजित         राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर विजेताओं को कुलपति डाक्टर डी.के.वत्स ने किया पुरस्कृत         विद्यार्थियों ने बनाए चंद्रयान व सौर मंडल के मॉडल         परोल स्कूल में ‘स्वीप’ के तहत आयोजित किया गया जागरुकता कार्यक्रम         बालासुंदरी चैत्र नवरात्र मेला 9 अप्रैल से 23 अप्रैल 2024 तक अयोजित होगा-एल.आर.वर्मा         मतदान फीसद बढ़ाने के लिए योजना पूर्वक करें प्रयास : अपूर्व देवगन         कांगड़ा जिला में मतदाता जारूकता अभियान पर करेंगे विशेष फोक्स: डीसी         मेधा प्रोत्साहन योजना के अभ्यर्थियों की अस्थाई सूची जारी         राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खल्याणी में जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन         कुल्लू में विद्यालय मृदा स्वास्थय कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर का आयोजन         हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित         निर्वाचन के दृष्टिगत गठित टीमों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित         नवोदय विद्यालय में बताया मिट्टी के परीक्षण का महत्व         निर्वाचन प्रक्रिया के सुचारू निर्वहन में नोडल अधिकारियों की अहम भूमिका: डीसी         9 अप्रैल को आयोजित होंगी लोक अदालतें         31 मार्च 2024 तक निर्धारित लक्ष्य पूरा करें सभी विभाग-सुमित खिमटा         जीत से बड़ा मनोबल, इतिहास बदला : बिंदल         प्लांट एवं मशीनरी में 721.78 करोड़ रुपये का निवेश         राज्यपाल ने किया मातृवन्दना पत्रिका के विशेषांक का विमोचन

राज्यपाल ने सोलन में स्कूल के विद्यार्थियों से संवाद किया

 हिम न्यूज़,   राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ आर्लेकर ने आज सोलन में राजकीय दलीप वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (बाल) के विद्यार्थियों के साथ उनकी कक्षा में संवाद किया। उन्होंने   पाठशाला के नौवीं-ए कक्षा के विद्यार्थियों के साथ बातचीत की। 53 छात्रों की इस कक्षा में विद्यार्थियों ने उत्सुकता के साथ सवाल पूछे।

राज्यपाल  ने   कहा कि किताबें मनुष्य की सच्ची मित्र होती हैं और हमें किताबों की संगति करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पाठ्यपुस्तकों के अलावा अन्य पुस्तकों को पढ़ने की आदत बनाना बहुत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि हमें बचपन से ही किताबें पढ़ने को अपनी नियमित दिनचर्या में शामिल करना चाहिए। इससे न केवल ज्ञान में वृद्धि होती है बल्कि विषय विशेष का ज्ञान भी बढ़ता है।

उन्होंने कहा कि विषय को समझने के लिए अलग-अलग किताबें पढ़ना आवश्यक है। हमारी प्राचीन पुस्तकों मंे ज्ञान का भण्डार है। देश में कई महान हिन्दी उपन्यासकार, कहानीकार और कवि हैं जिनकी रचनाओं का अध्ययन करने से हमारा जीवन समृद्ध होता है। हमें इन लोगों के जीवन मूल्यों का अनुसरण करना चाहिए।

राज्यपाल ने छात्रों से पूछा कि ज्ञान और विज्ञान में क्या अंतर है। हम अखबार क्यों पढ़ते हैं? अखबार पढ़ना जरूरी क्यों है? उन्होंने यह भी पूछा कि किस-किस विद्यार्थी के घर में भारत की महान हस्तियों की पुस्तकें हैं। उन्होंने  अपने साथ लाई गई महापुरुषों की पुस्तकें प्रत्येक छात्र को भेंट की और उन्हें पढ़ने के लिए कहा तथा इसके के उपरांत अपने अनुभव पत्र के माध्यम से राजभवन को भेजने के लिए कहा। उन्होंने विद्यार्थियों को जीवन में पढ़ने की आदत बनाने का परामर्श दिया। इस अवसर पर छात्रों ने राज्यपाल से प्रश्न भी किए।

विज्ञान अध्यापिका निशा ठाकुर व सीमा शर्मा भी इस अवसर पर उपस्थित थीं।

इसके उपरान्त, राज्यपाल ने स्कूल अध्यापकों के साथ बैठक कर शिक्षा से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। छात्रों के साथ संवाद करते हुए राज्यपाल ने बच्चों को ‘पढ़ेंगे तो टिकेंगे’ के उद्देश्य से पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने अध्यापकों से कहा कि छात्रों को पढ़ने की आदत डालने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि छात्रों को दिशा की जरूरत है और कहा कि वे बुद्धिमान हैं लेकिन उनके सामने एक उदाहरण बनना हमारा कर्तव्य है ताकि उनमें नैतिक मूल्य भी पैदा हों।

आज का दिन इन छात्रों के जीवन का यादगार दिन के रूप में अंकित हो गया। उनके लिए प्रदेश के गणमान्य व्यक्तियों के साथ बातचीत करने का यह अनुभव अविस्मरणीय रहेगा।

स्कूल की प्रधानाचार्या दिशा शर्मा ने राज्यपाल का स्वागत किया।

उपायुक्त सोलन कृतिका कुल्हरी, पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र शर्मा और अन्य प्रशासनिक अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।