Breaking
शिमला ग्रामीण युवा मोर्चा अध्यक्ष सुमित ठाकुर ने बनाई कार्यकारिणी, जुझारू युवाओं को मौका         भाजपा ने प्रदेश भर में चलाया स्वच्छता पखवाड़ा : बिंदल         पुलिस विभाग में आरक्षियों के 1226 पद भरने की स्वीकृति         विधायक नीरज नैय्यर की माता की रस्म क्रिया में शामिल हुए मुख्यमंत्री         मुख्यमंत्री ने राज्य स्तरीय मैराथन (रेड रन) का शुभारम्भ किया         राज्यपाल ने हरित एवं स्वच्छ ऊर्जा क्षेत्र में एकजुट प्रयासों पर बल दिया         रैत में  छात्राओं की जिला स्तरीय अंडर 19 खेलकूद प्रतियोगिता का शुभारंभ         अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्र और शिक्षक किए जाएंगे सम्मानित:शिक्षा मंत्री         कांग्रेस के नेता लगातार जवाब देने से भाग रहे हैं : बिंदल         कांगड़ा जिला में विभिन्न योजनाओं के तहत 13500 महिलाएं लाभांवित: पठानिया         सौर ऊर्जा परियोजनाओं से उत्पादित बिजली की 25 वर्षों तक खरीद करेगी प्रदेश सरकारः मुख्यमंत्री         ऋण के मामलों को मंजूर करने में देरी न करें बैंक: एडीसी         ट्रांसजेंडर को समाज की स्वीकृति के साथ स्वयं की पहचान चाहिए-धनंजय चौहान         स्कूली छात्रा को अश्लील गालियां देने और अश्लीलता भरे ईशारे करने के दोषी को कठोर कारावास एवं जुर्माना         केन्द्रीय अंतर मंत्रालय दल ने किया वर्षा प्रभावित दून और नालागढ़ विधानसभा क्षेत्रों का दौरा         बलाना-गोला संपर्क सड़क मार्ग के निर्माण कार्यों पर व्यय होंगे 6 लाख 25 हज़ार         जवाहर नवोदय विद्यालय में हिंदी पखवाड़ा का समापन समारोह आयोजित         जल्दी पूरी होंगी जायका चरण-दो के तहत बन रही सिंचाई योजनाएं-डॉ बलवीर  सिंह ठाकुर         पहली बार होगा शिमला फ्लाइंग फेस्टिवल का आयोजन, दुनियाभर से प्रतिभागी लेंगे हिस्सा         धर्मपुर में विभिन्न विभागों की आपदा प्रभावित 90 प्रतिशत से अधिक योजनाएं बहाल:चंद्रशेखर

राज्य में 10 लाख किसान परिवारों को 1931.63 करोड़ रुपये के प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरित

हिम न्यूज़, शिमला;   प्रदेश की अर्थव्यवस्था में किसान महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। राज्य सरकार भी किसानों की आय में वृद्धि करने और ग्रामीण क्षेत्रों के समग्र विकास को प्राथमिकता प्रदान कर रही है। जिसके फलस्वरूप राज्य सरकार प्रदेश में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का सफल कार्यान्वयन सुनिश्चित कर रही है।

पीएम किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना का उद्देश्य छोटे और सीमांत किसानों की खेती से संबंधित वित्तीय जरूरतों को पूरा करने और उचित फसल स्वास्थ्य और अधिकतम उपज सुनिश्चित करने, विभिन्न आदानों की खरीद, आधुनिक कृषि उपकरण और तकनीक से लैस करने की परिकल्पना की गई है। योजना के अन्तर्गत पात्र किसान लाभार्थियों को वार्षिक 6,000 रुपये का वित्तीय लाभ, तीन समान किश्तों में दो-दो हजार रुपये के रूप में प्रदान किए जाते हैं।

राज्य के किसानों को सशक्त करते हुए पीएम किसान योजना किसानों के छोटे-छोटे खर्चों पूर्ति करने में भी उपयोगी साबित हो रही है और किसानों को अच्छी गुणवत्ता वाले बीज, खाद और उपकरण खरीदने में सक्षम बना रही है। हिमाचल सरकार द्वारा राज्य में पीएम किसान योजना के सफल क्रियान्वयन से अब तक लगभग 10 लाख (9 लाख 83 हजार 279) किसान परिवारों को 1931.63 करोड़ रुपये की राशि 11 किश्तों में प्रदान की गई है।

अब तक, जिला बिलासपुर के 59,607 किसानों के बैंक खातों में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के माध्यम से 116.75 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए गए हैं, जिला चंबा के 70201 किसानों को 142.08 करोड़ रुपये, जिला हमीरपुर के 59699 किसानों को 120.98 करोड़ रुपये, जिला कांगड़ा के 215069 किसानों को 427.37 करोड़ रुपये, कुल्लू जिले के 68143 किसानों को 140.66 करोड़ रुपये और जिला मंडी के 170136 किसानों को 331.09 करोड़ का भुगतान किया गया है। जबकि जिला शिमला में 93315 किसानों के बैंक खातों में डीबीटी के माध्यम से 186.45 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए गए हैं। सिरमौर जिले के 73381 किसानों को 127.37 करोड़ रुपये, सोलन जिले के 68339 किसानों को 137.85 करोड़ रुपये और जिला ऊना के 91325 किसानों के बैंक खातों में सीधे तैार पर 174.36 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए गए हैं।

किन्नौर में  10966 व्  लाहौल स्पीति के 3098 किसानों को मिला लाभ

राज्य के जनजातीय जिलों के किसान भी पीएम किसान योजना के अन्तर्गत लाभान्वित हुए है। योजना के कार्यान्वयन से किन्नौर जिले के 10966 किसानों को लगभग 20.72 करोड़ रुपये की राशि और जिला लाहौल स्पीति के 3098 किसानों को लगभग 5.91 करोड़ रुपये की राशि प्रदान की गई है।

कोविड महामारी के दौरान भी पीएम किसान योजना राज्य के किसानों के लिए वरदान सिद्ध हुई है। इस दौरान राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के किसानों को 11.27 करोड़ रुपये की राशि जारी की गई और इसी अवधि के दौरान 93246 किसानों ने अपना  पंजीकरण भी करवाया।

योजना के व्यापक प्रचार-प्रसार तथा अधिक किसानों को लाभान्वित करने के लिए  पीएम किसान पोर्टल, कॉमन सर्विस सेंटर और पीएम किसान मोबाइल ऐप भी आरम्भ की गई है। लाभार्थियों को निधि के लेनदेन की निगरानी के लिए पीएम किसान पोर्टल बनाया गया है।