Breaking
शिमला ग्रामीण युवा मोर्चा अध्यक्ष सुमित ठाकुर ने बनाई कार्यकारिणी, जुझारू युवाओं को मौका         भाजपा ने प्रदेश भर में चलाया स्वच्छता पखवाड़ा : बिंदल         पुलिस विभाग में आरक्षियों के 1226 पद भरने की स्वीकृति         विधायक नीरज नैय्यर की माता की रस्म क्रिया में शामिल हुए मुख्यमंत्री         मुख्यमंत्री ने राज्य स्तरीय मैराथन (रेड रन) का शुभारम्भ किया         राज्यपाल ने हरित एवं स्वच्छ ऊर्जा क्षेत्र में एकजुट प्रयासों पर बल दिया         रैत में  छात्राओं की जिला स्तरीय अंडर 19 खेलकूद प्रतियोगिता का शुभारंभ         अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्र और शिक्षक किए जाएंगे सम्मानित:शिक्षा मंत्री         कांग्रेस के नेता लगातार जवाब देने से भाग रहे हैं : बिंदल         कांगड़ा जिला में विभिन्न योजनाओं के तहत 13500 महिलाएं लाभांवित: पठानिया         सौर ऊर्जा परियोजनाओं से उत्पादित बिजली की 25 वर्षों तक खरीद करेगी प्रदेश सरकारः मुख्यमंत्री         ऋण के मामलों को मंजूर करने में देरी न करें बैंक: एडीसी         ट्रांसजेंडर को समाज की स्वीकृति के साथ स्वयं की पहचान चाहिए-धनंजय चौहान         स्कूली छात्रा को अश्लील गालियां देने और अश्लीलता भरे ईशारे करने के दोषी को कठोर कारावास एवं जुर्माना         केन्द्रीय अंतर मंत्रालय दल ने किया वर्षा प्रभावित दून और नालागढ़ विधानसभा क्षेत्रों का दौरा         बलाना-गोला संपर्क सड़क मार्ग के निर्माण कार्यों पर व्यय होंगे 6 लाख 25 हज़ार         जवाहर नवोदय विद्यालय में हिंदी पखवाड़ा का समापन समारोह आयोजित         जल्दी पूरी होंगी जायका चरण-दो के तहत बन रही सिंचाई योजनाएं-डॉ बलवीर  सिंह ठाकुर         पहली बार होगा शिमला फ्लाइंग फेस्टिवल का आयोजन, दुनियाभर से प्रतिभागी लेंगे हिस्सा         धर्मपुर में विभिन्न विभागों की आपदा प्रभावित 90 प्रतिशत से अधिक योजनाएं बहाल:चंद्रशेखर

राज्यपाल ने डॉ. अम्बेडकर चेम्बर ऑफ कॉमर्स के हिमाचल चैप्टर का शुभारम्भ किया

हिम न्यूज़ शिमला,-  राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने आश्वासन दिया कि हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में डॉ. भीमराव अम्बेडकर के नाम से एक उद्यमिता केंद्र स्थापित किया जाएगा ताकि युवाओं में उद्यमिता का विकास हो सके।

यह बात राज्यपाल ने आज हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, शिमला में एक जागरूकता कार्यक्रम और डॉ. अम्बेडकर चेम्बर ऑफ कॉमर्स (डीएसीसी) के स्टेट चैप्टर के शुभारंभ के अवसर पर कही।
उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने समाज के हर वर्ग के कल्याण के लिए कार्य किया और उनके विचार मानव जाति के कल्याण और उत्थान के लिए समर्पित थे। उन्होंने जीवन में बहुत दुख सहे लेकिन उन्होंने इसमें व्यक्ति विशेष की अपेक्षा परिस्थितियों को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि वह समाज सुधारक थे और उन्होंने समाज में व्याप्त बुराइयों को उजागर किया। बाबा साहेब के विचार प्रेरणादायक हैं और उनके विचारों को सीमाओं में नहीं बांधा जा सकता। प्रत्येक व्यक्ति उनका अनुसरण कर सकता है।
राज्यपाल ने कहा कि आज के युवाओं को हमें दूसरों को भी नौकरी के अवसर प्रदान करने वाला बनाना है। इसका जबाव हमें डीएसीसी के शिमला चेप्टर में मिल सकता है। उन्होंने कहा कि हमें अपनी शिक्षा प्रणाली को भी उस दिशा में आगे बढ़ाना चाहिए जहां युवा रोजगार प्रदाता बन सकें। राष्ट्रीय शिक्षा नीति भी इस पर विशेष बल दे रही है। उन्होंने राज्य में उद्यमिता सृजन करने की आवश्यकता पर भी बल दिया।
इस अवसर पर राज्यपाल ने डीएसीसी के हिमाचल चैप्टर की संकल्पना का विमोचन किया।
इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष वीरेंद्र कश्यप ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से जुड़ी पुरानी यादों को सांझा करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय ने विकास का एक लम्बा सफर तय किया है। उन्होंने कहा कि राज्य के दुर्गम क्षेत्रों और ग्रामीण पृष्ठभूमि के विद्यार्थी कड़े संघर्ष के बाद यहां पढ़ने आते थे।
राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग की सदस्य अंजू बाला ने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में केंद्र और राज्य सरकारों ने अनेक कल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं, जिन्हें धरातल पर उतारने की आवश्यकता है। उन्होंने शिक्षा के प्रचार पर बल देते हुए कहा कि शिक्षा का उद्देश्य केवल नौकरी पाने तक ही सीमित नहीं है बल्कि उद्यमिता की ओर भी बढ़ने की आवश्यकता है।
डॉ. अम्बेदकर चैंबर ऑफ कॉमर्स के महानिदेशक इंद्र इकबाल सिंह अटवाल ने हिमाचल चैप्टर की स्थापना के लिए राज्यपाल और विश्वविद्यालय का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि डीएसीसी का उद्देश्य हिमाचल प्रदेश के प्रत्येक जिले में उद्यमिता विकास को बढ़ावा देना है।
इससे पहले, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला के कुलपति डॉ. सत प्रकाश बंसल ने राज्यपाल का स्वागत करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय में डीएसीसी के हिमाचल चैप्टर की स्थापना से डॉ. अम्बेडकर के सामाजिक न्याय, गरीबों के उत्थान और आर्थिक सुधारों के मिशन को पूरा करने में सहयोग मिलेगा।
डीएसीसी के नोडल अधिकारी प्रो. श्याम लाल कौशल ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति प्रो. ज्योति प्रकाश, अधिष्ठाता अध्ययन प्रो. कुलभूषण चंदेल, रजिस्ट्रार बलवान चंद, और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे