Breaking
पदमश्री विद्यानंद सरैक होंगे सिरमौर के जिला आईकन         अतिरिक्त व्यय पर्यवेक्षकों के लिए कार्यशाला आयोजित         राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर विजेताओं को कुलपति डाक्टर डी.के.वत्स ने किया पुरस्कृत         विद्यार्थियों ने बनाए चंद्रयान व सौर मंडल के मॉडल         परोल स्कूल में ‘स्वीप’ के तहत आयोजित किया गया जागरुकता कार्यक्रम         बालासुंदरी चैत्र नवरात्र मेला 9 अप्रैल से 23 अप्रैल 2024 तक अयोजित होगा-एल.आर.वर्मा         मतदान फीसद बढ़ाने के लिए योजना पूर्वक करें प्रयास : अपूर्व देवगन         कांगड़ा जिला में मतदाता जारूकता अभियान पर करेंगे विशेष फोक्स: डीसी         मेधा प्रोत्साहन योजना के अभ्यर्थियों की अस्थाई सूची जारी         राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खल्याणी में जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन         कुल्लू में विद्यालय मृदा स्वास्थय कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर का आयोजन         हिमतरु प्रकाशन समिति तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित         निर्वाचन के दृष्टिगत गठित टीमों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित         नवोदय विद्यालय में बताया मिट्टी के परीक्षण का महत्व         निर्वाचन प्रक्रिया के सुचारू निर्वहन में नोडल अधिकारियों की अहम भूमिका: डीसी         9 अप्रैल को आयोजित होंगी लोक अदालतें         31 मार्च 2024 तक निर्धारित लक्ष्य पूरा करें सभी विभाग-सुमित खिमटा         जीत से बड़ा मनोबल, इतिहास बदला : बिंदल         प्लांट एवं मशीनरी में 721.78 करोड़ रुपये का निवेश         राज्यपाल ने किया मातृवन्दना पत्रिका के विशेषांक का विमोचन

राज्यपाल ने डॉ. अम्बेडकर चेम्बर ऑफ कॉमर्स के हिमाचल चैप्टर का शुभारम्भ किया

हिम न्यूज़ शिमला,-  राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने आश्वासन दिया कि हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में डॉ. भीमराव अम्बेडकर के नाम से एक उद्यमिता केंद्र स्थापित किया जाएगा ताकि युवाओं में उद्यमिता का विकास हो सके।

यह बात राज्यपाल ने आज हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, शिमला में एक जागरूकता कार्यक्रम और डॉ. अम्बेडकर चेम्बर ऑफ कॉमर्स (डीएसीसी) के स्टेट चैप्टर के शुभारंभ के अवसर पर कही।
उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने समाज के हर वर्ग के कल्याण के लिए कार्य किया और उनके विचार मानव जाति के कल्याण और उत्थान के लिए समर्पित थे। उन्होंने जीवन में बहुत दुख सहे लेकिन उन्होंने इसमें व्यक्ति विशेष की अपेक्षा परिस्थितियों को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि वह समाज सुधारक थे और उन्होंने समाज में व्याप्त बुराइयों को उजागर किया। बाबा साहेब के विचार प्रेरणादायक हैं और उनके विचारों को सीमाओं में नहीं बांधा जा सकता। प्रत्येक व्यक्ति उनका अनुसरण कर सकता है।
राज्यपाल ने कहा कि आज के युवाओं को हमें दूसरों को भी नौकरी के अवसर प्रदान करने वाला बनाना है। इसका जबाव हमें डीएसीसी के शिमला चेप्टर में मिल सकता है। उन्होंने कहा कि हमें अपनी शिक्षा प्रणाली को भी उस दिशा में आगे बढ़ाना चाहिए जहां युवा रोजगार प्रदाता बन सकें। राष्ट्रीय शिक्षा नीति भी इस पर विशेष बल दे रही है। उन्होंने राज्य में उद्यमिता सृजन करने की आवश्यकता पर भी बल दिया।
इस अवसर पर राज्यपाल ने डीएसीसी के हिमाचल चैप्टर की संकल्पना का विमोचन किया।
इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष वीरेंद्र कश्यप ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से जुड़ी पुरानी यादों को सांझा करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय ने विकास का एक लम्बा सफर तय किया है। उन्होंने कहा कि राज्य के दुर्गम क्षेत्रों और ग्रामीण पृष्ठभूमि के विद्यार्थी कड़े संघर्ष के बाद यहां पढ़ने आते थे।
राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग की सदस्य अंजू बाला ने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में केंद्र और राज्य सरकारों ने अनेक कल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं, जिन्हें धरातल पर उतारने की आवश्यकता है। उन्होंने शिक्षा के प्रचार पर बल देते हुए कहा कि शिक्षा का उद्देश्य केवल नौकरी पाने तक ही सीमित नहीं है बल्कि उद्यमिता की ओर भी बढ़ने की आवश्यकता है।
डॉ. अम्बेदकर चैंबर ऑफ कॉमर्स के महानिदेशक इंद्र इकबाल सिंह अटवाल ने हिमाचल चैप्टर की स्थापना के लिए राज्यपाल और विश्वविद्यालय का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि डीएसीसी का उद्देश्य हिमाचल प्रदेश के प्रत्येक जिले में उद्यमिता विकास को बढ़ावा देना है।
इससे पहले, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला के कुलपति डॉ. सत प्रकाश बंसल ने राज्यपाल का स्वागत करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय में डीएसीसी के हिमाचल चैप्टर की स्थापना से डॉ. अम्बेडकर के सामाजिक न्याय, गरीबों के उत्थान और आर्थिक सुधारों के मिशन को पूरा करने में सहयोग मिलेगा।
डीएसीसी के नोडल अधिकारी प्रो. श्याम लाल कौशल ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।
विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति प्रो. ज्योति प्रकाश, अधिष्ठाता अध्ययन प्रो. कुलभूषण चंदेल, रजिस्ट्रार बलवान चंद, और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे