Breaking
कंगना की टिकट घोषित होने से कांग्रेस के सभी नेता परेशान : बिहारी लाल         आपदा के पैसे को लूटने का काम कांग्रेस ने किया : कंगना         नये वोटरों को किया जागरूक         न्याय पत्र में कांग्रेस पार्टी ने ओल्ड पेंशन स्कीम पर चुप्पी साधी : सहजल         राज्यपाल ने प्रदेश की प्रगति में योगदान देने वाले हाई फ्लायर्स को सम्मानित किया         उपायुक्त ने बल्ह विधानसभा के चार पोलिंग बूथों का किया निरीक्षण         पारंपरिक मेलों की तरह लोकतंत्र के पर्व में भी जरूर लें हिस्सा: डीसी         100 कि.मी. के ट्रेल में धावक 30 पंचायतों में देंगे मतदान के महत्व की जानकारी         9 उपचुनावों के लिए बिंदल ने तैनात किए चुनाव प्रभारी से प्रभारी और सहयोगी          हिमाचल को मोदी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में बनाया आत्मनिर्भर: अनुराग ठाकुर         स्व. बाबूराम की याद में लांच किया कैलेंडर         बसोआ पर्व के मौके पर यूनिवर्सिटी परिसर में किया गया खीर व पिंदड़ी वितरण         मुख्यमंत्री के कारण बिगड़ा सरकार का गणित : बलबीर वर्मा         एसडीएम ने जारी किया स्थानीय भाषा में तैयार मतदाता प्रेेरक साॅन्ग         वोटर कार्ड नहीं है तो वैकल्पिक दस्तावेज के साथ करें मतदान: डीसी         प्रदेश की भावी राजनीति की दिशा व दशा तय करेंगे यह चुनाव परिणाम : प्रतिभा सिंह         हमीरपुर के तीनों न्यायिक परिसरों में 11 मई को लगेंगी लोक अदालतें         हिमाचल की सभी लोकसभा व उपचुनाव विधानसभा की सभी सीटें जीतेंगे बड़े अंतर से: अनुराग ठाकुर         मुख्यमंत्री बहुत तनाव में हैं इसलिए कर रहे हैं उल्टी सीधी बयानबाज़ी : जयराम ठाकुर         जनता को परेशान कर रही है परेशान कांग्रेस सरकार : सुखराम

सेब की किस्में  पूरन चन्द के लिए बनी वरदान

कृषि योग्य भूमि के विकास के लिए विभिन्न उपदान प्रदान करने पर पूरन चन्द ने राज्य सरकार का आभार जताया
उद्यान विभाग द्वारा निचले क्षेत्रों के लिए विकसित सेब की किस्में  पूरन चन्द के लिए बनी वरदान
मेहनत का फल सदैव सुखदायी होता है। कांगड़ा जिले की शाहपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम दुर्गेला के पूरन चंद ने अपने समर्पण, कड़ी मेहनत और लीक से हटकर सोच से इस कहावत को चरितार्थ किया है।

प्रदेश के छोटे से किसान पूरन चन्द कुछ साल पहले तक अपनी जमीन पर गेहूं और अन्य पारंपरिक फसलों की खेती कर रहे थे। उनकी लीक से हटकर सोच तथा कुछ अलग करने की भावना और राज्य बागवानी विभाग के अधिकारियों से मिली प्रेरणा से उन्होंने अपनी लगभग दो बीघा भूमि में डोरसेट गोल्डन और अन्ना किस्म के सेब के पौधे लगाए।

बागवानी क्षेत्र में पूरन चंद की विकास यात्रा लगभग तीन साल पहले 2018 में शुरू हुई थी। पूरन चन्द राज्य सरकार की पानी के टैंक के निर्माण और कृषि भूमि के विकास के लिए कार्यान्वित की जा रही योजना से प्रेरित हुए थे।

वह राज्य के शिमला जिले के सेब उत्पादक क्षेत्रों के लोगों की मजबूत आर्थिकी से हमेशा प्रभावित थे। प्रदेश सरकार के बागवानी विभाग द्वारा राज्य के निचले क्षेत्रों के लिए उपयुक्त सेब की किस्मों को विकसित करने के लिए तैयार योजना का लाभ उठाते हुए पूरन चंद ने अपनी जमीन पर एक सेब का बागीचा लगाने  का फैसला किया।

पूरन चंद का कहना है

कि जब उन्होंने अपने खेत में सेब की पौध लगाना शुरू किया तो उनकी धर्मपत्नी ने भी उनके इस विचार का विरोध किया क्योंकि उन्हें इस योजना की सफलता पर संशय था।

उन्होंने कहा कि वह अपने निर्णय पर अडिग और अपनी जमीन पर सेब फार्म स्थापित करने के लिए निरंतर प्रयासरत रहे।

पूरन चंद को विभाग के अधिकारियों द्वारा सभी तकनीकी जानकारी प्रदान की गई और तीन साल की अल्प अवधि के साथ उन्हें अपनी कड़ी मेहनत का फल मिलने लगा। पिछले तीन वर्षों के दौरान पूरन चंद ने 100 से 150 रुपये प्रति किलो की दर से लगभग 1.50 लाख रुपये के सेब की बिक्री की।

उनका कहना है कि वह अपने बगीचे में रासायनिक खाद या स्प्रे का इस्तेमाल नहीं करते बल्कि दालों, रसोई के कचरे, तिलहन, गोमूत्र और गोबर से बने विभिन्न प्रकार के जैविक उर्वरकों का उपयोग करते हैं।

पूरन चंद ने लीज पर जमीन लेकर लगभग 28 हजार सेब पौधों की नर्सरी भी तैयार की है। उनका कहना है कि इस वर्ष सर्दियों में वह स्थानीय किसानों को लगभग 3500 पौधे बेचेंगे। पूरन चंद का कहना  कि स्थानीय लोग और पर्यटक सीधे उनके खेत से यह पौधे खरीद सकते हैं।

पूरन चंद ने बताया कि उनकी धर्मपत्नी गांव के स्कूल में शिक्षिका हैं, लेकिन कोरोना महामारी के कारण करीब दो साल तक स्कूल बंद रहने पर उन्होंने सेब बागीचे को विकसित करने के लिए हर संभव सहायता की।

उन्होंने न केवल सेब की नर्सरी विकसित की, साथ ही इच्छुक किसानों को सेब पौधे भी उपलब्ध करवाए।

उनका कहना है कि आज वह देश भर के प्रगतिशील किसानों को सेब के पौधों की आपूर्ति कर रहे हैं। आज देश के विभिन्न भागों में उनके ग्राहक हैं और कर्नाटक, उत्तरी-पूर्व, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, तेलंगाना आदि के किसानों को उन्होंने सेब के पौधों की आपूर्ति सुनिश्चित की है।

पूरन चंद को राज्य सरकार की ओर से एंटी-हेल-नेट के लिए 80 प्रतिशत का अनुदान भी मिला है। वर्तमान में उन्होंने चार कनाल बागीचे में अन्ना और डोरसेट सेब की किस्मों के लगभग 150 पौधे लगाए हैं।

उन्होंने अपने खेतों में लगभग 100 से अधिक सेब के पौधे लगाने की भी योजना तैयार की है।

स्वरोजगार की राह पर चलने का आह्वान करते हुए उन्होंने युवाओं को सलाह दी कि वह नौकरी के पीछे भागने के बजाए सेब, कीवी और अमरूद के पौधे लगाकर बागवानी को अपनाएं।