Breaking
कांगड़ा जिला में चार स्थान मतगणना के लिए प्रस्तावित - डीसी         कंगना की टिकट घोषित होने से कांग्रेस के सभी नेता परेशान : बिहारी लाल         आपदा के पैसे को लूटने का काम कांग्रेस ने किया : कंगना         नये वोटरों को किया जागरूक         न्याय पत्र में कांग्रेस पार्टी ने ओल्ड पेंशन स्कीम पर चुप्पी साधी : सहजल         राज्यपाल ने प्रदेश की प्रगति में योगदान देने वाले हाई फ्लायर्स को सम्मानित किया         उपायुक्त ने बल्ह विधानसभा के चार पोलिंग बूथों का किया निरीक्षण         पारंपरिक मेलों की तरह लोकतंत्र के पर्व में भी जरूर लें हिस्सा: डीसी         100 कि.मी. के ट्रेल में धावक 30 पंचायतों में देंगे मतदान के महत्व की जानकारी         9 उपचुनावों के लिए बिंदल ने तैनात किए चुनाव प्रभारी से प्रभारी और सहयोगी          हिमाचल को मोदी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में बनाया आत्मनिर्भर: अनुराग ठाकुर         स्व. बाबूराम की याद में लांच किया कैलेंडर         बसोआ पर्व के मौके पर यूनिवर्सिटी परिसर में किया गया खीर व पिंदड़ी वितरण         मुख्यमंत्री के कारण बिगड़ा सरकार का गणित : बलबीर वर्मा         एसडीएम ने जारी किया स्थानीय भाषा में तैयार मतदाता प्रेेरक साॅन्ग         वोटर कार्ड नहीं है तो वैकल्पिक दस्तावेज के साथ करें मतदान: डीसी         प्रदेश की भावी राजनीति की दिशा व दशा तय करेंगे यह चुनाव परिणाम : प्रतिभा सिंह         हमीरपुर के तीनों न्यायिक परिसरों में 11 मई को लगेंगी लोक अदालतें         हिमाचल की सभी लोकसभा व उपचुनाव विधानसभा की सभी सीटें जीतेंगे बड़े अंतर से: अनुराग ठाकुर         मुख्यमंत्री बहुत तनाव में हैं इसलिए कर रहे हैं उल्टी सीधी बयानबाज़ी : जयराम ठाकुर

राष्ट्रपति ने की सेंट विनसेंट व ग्रेनाडीन्स के नेताओं से भेंट

राष्ट्रपति जमैका और सेंट विनसेंट व ग्रेनाडीन्स, दो राष्ट्रों के अपने राजकीय दौरे के अंतिम चरण में 18 मई, 2022 को सेंट विनसेंट व ग्रेनाडीन्स की राजधानी किंग्सटाउन पहुंच गये है। किसी भी भारतीय राष्ट्रपति की यह इस देश की पहली यात्रा है। सेंट विनसेंट व ग्रेनाडीन्स की गवर्नर जनरल  डेम सूजन डूगन, प्रधानमंत्री डॉ. राल्फ ई. गोनजाल्विस और अन्य गणमान्यों ने अरगाइल इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर राष्ट्रपति की अगवानी की। हवाई अड्डे पर उतरने के बाद राष्ट्रपति को सलामी गारद पेश की गई।

कल (19 मई, 2022) राष्ट्रपति ने अपने दौरे की शुरूआत गवर्नमेंट हाउस पहुंचकर की, जहां उन्होंने गवर्नर जनरल सुश्री डेम सूजन डूगन और प्रधानमंत्री डॉ. राल्फ ई. गोनजाल्विस  से मुलाकात की। मुलाकात के दौरान राष्ट्रपति ने सेंट विनसेंट व ग्रेनाडीन्स पहुंचने पर गर्मजोशी भरे स्वागत-सत्कार के लिये दोनों को धन्यवाद दिया।

सभी नेताओं ने सूचना प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यटन और संस्कृति तथा बहुस्तरीय मंचों पर भारत तथा सेंट विनसेंट व ग्रेनाडीन्स के बीच सहयोग मजबूत करने पर चर्चा की।

बैठक के बाद राष्ट्रपति श्री कोविन्द, गवर्नर जनरल डेम सूजन डूगन और प्रधानमंत्री डॉ. राल्फ गोनजाल्विस ने कर-संकलन में सूचना और सहयोग के आदान-प्रदान के लिये समझौते तथा ओल्ड कॉल्डर कम्यूनिटी सेंटर के पुनर्निर्माण के लिये समझौता-ज्ञापन पर हस्ताक्षर कार्यक्रम का अवलोकन किया।

इसके बाद राष्ट्रपति किंग्सटाउन में बोटेनिकल गार्डन गये, जहां उन्होंने भारतीय सफेद चंदन का पौधा लगाया। उस दौरान एक सांस्कृतिक समारोह भी देखा, जो विनसेनशियन तथा भारतीय संस्कृति का मिला-जुला रूप था।

राष्ट्रपति का अगला कार्यक्रम था सेंट विनसेंट व ग्रेनाडीन्स के सदन के विशेष सत्र को सम्बोधित करना, जिसका विषय थाः “इंडिया एंड सेंट विनसेंट एंड दी ग्रेनाडीन्स टूवर्ड्स अन इंक्लूसिव वर्ल्ड ऑर्डर।”

राष्ट्रपति ने कहा कि भूमंडलीकरणयुक्त विश्व व्यवस्था ने कुछ चुनौतियां भी पैदा कर दी हैं। जलवायु परिवर्तन, अंतर्राष्ट्रीय शांति व सुरक्षा के लिये खतरा बने राजनीतिक संघर्ष, सीमा पार आतंकवाद, आपूर्ति श्रृंखला में व्यावधान – ये कुछ प्रमुख वैश्विक चुनौतियां हैं, जो हमें प्रभावित करती हैं। उन्होंने कहा कि सभी राष्ट्रों को अपने तंग नजरिये और हितों के पार देखना होगा, ताकि इन चुनौतियों से निपटकर भावी पीढ़ियों का कल्याण सुनिश्चित हो सके।

राष्ट्रपति ने कहा कि हमारे साझा इतिहास में पहले की अपेक्षा बहुपक्षवाद आज की आपस में जुड़ी व स्वतंत्र दुनिया के लिये ज्यादा प्रासंगिक है। बहुपक्षवाद को राष्ट्रों के मजबूत, स्थायी, संतुलित, समावेशी विकास के लिये इस्तेमाल किया जाना चाहिये। बहरहाल, बहुपक्षवाद के लिये यह भी जरूरी है कि वह प्रासंगिक और कारगर बना रहे तथा संस्थानों में सुधार होता रहे।