Breaking
चुनावों के लिये भाजपा नेताओं के पास कोई मुद्दा नही : संजय अवस्थी         मतदाता पहचान पत्र न होने पर वैकल्पिक दस्तावेज के साथ कर सकते हैं मतदान - उपायुक्त         कांगड़ा जिला में चार स्थान मतगणना के लिए प्रस्तावित - डीसी         कंगना की टिकट घोषित होने से कांग्रेस के सभी नेता परेशान : बिहारी लाल         आपदा के पैसे को लूटने का काम कांग्रेस ने किया : कंगना         नये वोटरों को किया जागरूक         न्याय पत्र में कांग्रेस पार्टी ने ओल्ड पेंशन स्कीम पर चुप्पी साधी : सहजल         राज्यपाल ने प्रदेश की प्रगति में योगदान देने वाले हाई फ्लायर्स को सम्मानित किया         उपायुक्त ने बल्ह विधानसभा के चार पोलिंग बूथों का किया निरीक्षण         पारंपरिक मेलों की तरह लोकतंत्र के पर्व में भी जरूर लें हिस्सा: डीसी         100 कि.मी. के ट्रेल में धावक 30 पंचायतों में देंगे मतदान के महत्व की जानकारी         9 उपचुनावों के लिए बिंदल ने तैनात किए चुनाव प्रभारी से प्रभारी और सहयोगी          हिमाचल को मोदी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में बनाया आत्मनिर्भर: अनुराग ठाकुर         स्व. बाबूराम की याद में लांच किया कैलेंडर         बसोआ पर्व के मौके पर यूनिवर्सिटी परिसर में किया गया खीर व पिंदड़ी वितरण         मुख्यमंत्री के कारण बिगड़ा सरकार का गणित : बलबीर वर्मा         एसडीएम ने जारी किया स्थानीय भाषा में तैयार मतदाता प्रेेरक साॅन्ग         वोटर कार्ड नहीं है तो वैकल्पिक दस्तावेज के साथ करें मतदान: डीसी         प्रदेश की भावी राजनीति की दिशा व दशा तय करेंगे यह चुनाव परिणाम : प्रतिभा सिंह         हमीरपुर के तीनों न्यायिक परिसरों में 11 मई को लगेंगी लोक अदालतें

पौष्टिक भुजिया चावल की 6.05 लाख मीट्रिक टन गोदाम में रखने की अनुमति

केंद्र ने तेलंगाना को खरीफ विपरण मौसम 2020-21 तथा खरीफ विपरण मौसम 2021-22 के बचे हुये धान से बने भुजिया चावल की 6.05 लाख मीट्रिक टन मात्रा को भारतीय खाद्य निगम के गोदाम में रखने की अनुमति प्रदान कर दी है। राज्य सरकार के आग्रह को ध्यान में रखते हुये इस आशय का पत्र 11 मई, 2022 को जारी कर दिया गया है।

तेलंगाना की राइस मिलों में तैयार चावल की आपूर्ति खरीफ विपरण मौसम 2020-21 (रबी) सितंबर, 2021 तक हुई थी। तेलंगाना सरकार के आग्रह पर भारत सरकार के शासनादेश 14.05.2022 के आधार पर इस अवधि को सातवीं बार बढ़ाकर मई 2022 तक कर दिया गया है।

इसके पहले केंद्र सरकार ने खरीफ विपरण मौसम 2021-22 (रबी फसल) के दौरान तेलंगाना से 40.20 लाख मीट्रिक टन चावल की अनुमानित खरीद को मंजूर किया था, जिसकी खरीद अवधि जून, 2022 तक तथा उसकी दलाई की अवधि सितंबर, 2022 तक तय था।

तेलंगाना ने 13 अप्रैल, 2022 को एक पत्र भारत सरकार के खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग को भेजकर आग्रह किया था, जिसे स्वीकारते हुये केंद्र सरकार ने 10 अप्रैल, 2022 को भेजे पत्र में खरीद सम्बंधी आग्रह को मान लिया था।

केंद्र सरकार ने हमेशा तेलंगाना सहित सभी राज्यों में खरीद गतिविधियों का समर्थन किया है। खरीफ विपरण मौसम 2015-16 के दौरान 15.79 लाख मीट्रिक टन चावल की खरीद को मद्देनजर रखते हुये 3,417.15 करोड़ रुपये की न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ 5,35,007 किसानों को मिला तथा तेलंगाना में खरीफ विपरण मौसम 2020-21 के दौरान 94.53 लाख मीट्रिक टन चावल की खरीद से 21,64,354 किसानों को फायदा पहुंचा, क्योंकि इस खरीद में 26,637.39 करोड़ रुपये के न्यूनत समर्थन मूल्य का लाभ मिला था।

11 मई, 2022 तक चालू खरीफ विपरण मौसम 2021-22 में 72.71 लाख मीट्रिक टन धान (48.72 लाख मीट्रिक टन चावल के बराबर) की खरीद की गई तथा कुल 14251.59 करोड़ रुपये के न्यूनतम समर्थन मूल्य के आधार पर 11,14,833 किसानों को फायदा मिला।