Breaking
3 लाख से कम आय है तो ले सकते हैं मुफ्त कानूनी मदद         शास्त्री एवं भाषा अध्यापकों की भर्ती के लिए काउंसलिंग 26 व 27 फरवरी को         सिरमौर जिला में 28 और 29 फ़रवरी को  लगेंगी राजस्व लोक अदालतें-सुमित खिमटा         दैनिक आहार में मोटे अनाज को अवश्य शामिल करें         पंचायती राज संस्थाओं में रिक्त पदों के लिये उप-चुनाव 25 फरवरी को         चुनाव प्रक्रिया के दौरान सभी नोडल अधिकारियों की भूमिका अग्रणी और महत्वपूर्ण - अनुपम कश्यप         तीन दिवसीय राज्य स्तरीय छेश्चू मेला संपन्न         तंबोला की 13 लाख में हुई नीलामी         राजभवन में अरूणाचल प्रदेश और मिज़ोरम का स्थापना दिवस आयोजित         बिना बजट के योजनाएं घोषित करने वाले हवा-हवाई सीएम बने सुक्खू : जयराम ठाकुर         मुख्यमंत्री ने सेना के जवान के निधन पर शोक व्यक्त किया         मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के 15 टिप्परों को रवाना किया         हमने शिमला संसदीय क्षेत्र में पिछले 5 साल में 15000 करोड़ रुपए से अधिक के काम करवाए : कश्यप         2004 से 2014 तक कांग्रेस के 10 साल भ्रष्टाचार : बिंदल         जोगिन्दर नगर के रैंस भलारा की महिलाएं तैयार कर रही हैं विभिन्न तरह का आचार         जिला स्तरीय लोकगीत प्रतियोगिता के लिए पंजीकरण 26 तक         कांगड़ा और चंबा के युवाओं ने लिया राष्ट्रीय युवा संसद में भाग         प्रतिभा सिंह ने नाचन विधानसभा क्षेत्र में किए विभिन्न विकासात्मक कार्यों के शिलान्यास         आईपीएस अधिकारी राकेश सिंह ने संभाला एसपी ऊना का पदभार         कुपोषण की रोकथाम के लिए मिशन मोड में कार्य किया जाएगा - जतिन लाल

एसजेवीएन ने राजस्थान में ईपीसी अनुबंध पर 1000 मेगावाट की सौर परियोजना अवार्ड की.

एसजेवीएन अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, नन्‍द लाल शर्मा,  आज एसजेवीएन ने मैसर्स टाटा पावर सोलर सिस्टम्स लिमिटेड को बीकानेर, राजस्थान में 1000 मेगावाट सौर परियोजना के इंजीनियरिंग, प्रापण एवं निर्माण (ईपीसी) के लिए एलओए (अवार्ड पत्र) जारी किया।

नन्‍द लाल शर्मा ने बताया कि यह आज तक प्रदान किया गया भारत का सबसे बड़ा सौर ईपीसी अनुबंध है। परियोजना के निर्माण और विकास की समग्र लागत 5491.89 करोड़ रुपए है। यह परियोजना पहले वर्ष में 2454.55 मि.यू. विद्युत उत्‍पादन करेगी और 25 वर्षों की अवधि में लगभग 56838.32 मि.यू. का विद्युत उत्पादन करेगी।

इस परियोजना की कमीशनिंग से 25 वर्ष में लगभग 27,85,077 टन कार्बन उत्सर्जन में कमी आने की उम्मीद है। यह परियोजना मई 2024 तक कमीशन होगी।

नंद लाल शर्मा ने कहा कि, “यह परियोजना भारत सरकार के 500 गीगावाट गैर-जीवाश्म ऊर्जा क्षमता के लक्ष्य को प्राप्त करने और वर्ष 2030 तक कुल अनुमानित कार्बन उत्सर्जन में एक बिलियन टन की कमी करने की हमारी प्रतिबद्धता को और दृढ़ता प्रदान करती है।

  हाल ही में अर्जित नई सौर परियोजनाएं एसजेवीएन के वर्ष 2023 तक 5000 मेगावाट, 2030 तक 25000 मेगावाट और वर्ष 2040 तक 50000 मेगावाट के साझा विजन को प्राप्त करने का मार्ग प्रशस्त कर रही है।”

 नन्‍द लाल शर्मा ने आगे बताया कि इस ईपीसी अनुबंध के दायरे में एसजेवीएन को प्रारंभ से अंत तक कमीशन किए गए सोलर संयंत्र की डिलीवरी शामिल है, जिसमें एकमुश्त प्रापण के आधार पर भूमि की व्यवस्था, आईएसटीएस सब स्टेशन तक विद्युत की निकास प्रणाली और तीन वर्षों के लिए सौर पीवी संयंत्र का प्रचालन और रखरखाव शामिल है।