Breaking
डाक मतपत्र से वोट डाल सकेंगे आवश्यक सेवाओं में लगे मतदाता: डीसी         बैलेट पेपर एवं पोस्टल बैलेट पेपर प्रिंट करने के संबंध में बैठक आयोजित         उपायुक्त ने बीडीओ टूटू अनमोल को यूपीएससी परीक्षा पास करने पर दी बधाई         आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद 7.85 करोड़ रुपये की जब्ती         अग्निवीर की ऑनलाइन परीक्षा 22 अप्रैल से         अपनी खीज मिटाने में जुटे कांग्रेस नेता - बिंदल         दुर्गाष्टमी के अवसर पर राजभवन में फलाहार ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन         बिजली रहेगी गुल         कांग्रेस पार्टी की नियत में खोट, 1500 महिलाओं को देना की इच्छा नहीं : त्रिलोक         भाजपा का संकल्प पत्र मोदी की गारंटी : बिंदल         बायोलचिम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने किया किसान संगोष्ठी का सफल आयोजन         भाजपा संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने कार्यकर्ताओं को चुनावी टिप्स         कंगना के साथ भाजपा नेता जयराम ठाकुर ने की दलाई लामा से मुलाकात         मतदाता पहचान पत्र बनाने के लिए नए मतदाता 4 मई तक कर सकते हैं आवेदन         आधुनिक हिमाचल के निर्माण में स्व. वीरभद्र सिंह ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका : यशवंत छाजटा         केंद्रीय विद्यालय सलोह में रिक्तियों के लिए आवेदन 25 अप्रैल तक         आवश्यक सेवाओं से जुड़े अधिकारी व कर्मचारी पोस्टल बेल्ट सुविधा से कर सकेंगे मतदान         परस राम धीमान और समर्थकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह से की मुलाकात         राहुल गाँधी की न्याय गारंटियों का प्रदेशभर में प्रचार करेंगी एनएसयूआई         भाजपा ने 1500 रुपये रुकवाकर महिलाओं को किया अपमानित : कांग्रेस

उपराष्ट्रपति ने वेलिंगटन में रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज का दौरा किया

उपराष्ट्रपति, एम. वेंकैया नायडु ने आज कहा कि ड्रोन और साइबर युद्ध के बढ़ते उपयोग के साथ संघर्षों की मिश्रित प्रकृति के कारण युद्ध के मैदान में प्रतीकात्‍मक बदलाव आया है। उन्‍होंने अपने सशस्त्र बलों से इन नए और उभरते क्षेत्रों में क्षमताओं को विकसित करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना को ‘भविष्य की ताकत’ के रूप में विकसित करना हमारा दृष्टिकोण होना चाहिए।

रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन के अधिकारियों और कर्मचारियों को आज संबोधित करते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारत अत्यधिक जटिल और अप्रत्याशित भू-राजनीतिक वातावरण में कई सुरक्षा चुनौतियों का सामना कर रहा है। यह देखते हुए कि हम बाहर और भीतर से संतुलित और विषम दोनों तरह के खतरों का सामना कर रहे हैं, वह चाहते थे कि हमारे सशस्त्र बल किसी भी चुनौती से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार हों और किसी भी सुरक्षा खतरे का मजबूती से मुकाबला करें। यह देखते हुए कि भारत का दृष्टिकोण हमेशा शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व का रहा है और कभी भी विस्तारवादी नहीं रहा है, उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि भारत की संप्रभुता को विरोधी ताकतों द्वारा चुनौती देने के किसी भी प्रयास से हमारे सुरक्षा बलों द्वारा दृढ़ता से निपटा जाएगा।

रक्षा और एयरोस्पेस प्रौद्योगिकी में आत्मनिर्भरता प्राप्त करने की आवश्यकता पर बल देते हुए, श्री नायडु ने इस महत्वपूर्ण क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की दिशा में कई पहल करने के लिए सरकार की सराहना की। उन्होंने अधिकारियों से कहा, ‘‘हम भविष्य में कदम रखने के साथ ही आपको एकल सेवा दक्षताओं से बहु डोमेन चुनौतियों में स्नातक होना होगा, जिसके लिए संयुक्त और बहु ​​डोमेन संचालन की गहन समझ की आवश्यकता होती है।’’ वह चाहते थे कि डीएसएससी के प्रशिक्षक और संकाय सभी छात्रों के बीच एकजुटता और तालमेल की भावना पैदा करें।