Breaking
3 लाख से कम आय है तो ले सकते हैं मुफ्त कानूनी मदद         शास्त्री एवं भाषा अध्यापकों की भर्ती के लिए काउंसलिंग 26 व 27 फरवरी को         सिरमौर जिला में 28 और 29 फ़रवरी को  लगेंगी राजस्व लोक अदालतें-सुमित खिमटा         दैनिक आहार में मोटे अनाज को अवश्य शामिल करें         पंचायती राज संस्थाओं में रिक्त पदों के लिये उप-चुनाव 25 फरवरी को         चुनाव प्रक्रिया के दौरान सभी नोडल अधिकारियों की भूमिका अग्रणी और महत्वपूर्ण - अनुपम कश्यप         तीन दिवसीय राज्य स्तरीय छेश्चू मेला संपन्न         तंबोला की 13 लाख में हुई नीलामी         राजभवन में अरूणाचल प्रदेश और मिज़ोरम का स्थापना दिवस आयोजित         बिना बजट के योजनाएं घोषित करने वाले हवा-हवाई सीएम बने सुक्खू : जयराम ठाकुर         मुख्यमंत्री ने सेना के जवान के निधन पर शोक व्यक्त किया         मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के 15 टिप्परों को रवाना किया         हमने शिमला संसदीय क्षेत्र में पिछले 5 साल में 15000 करोड़ रुपए से अधिक के काम करवाए : कश्यप         2004 से 2014 तक कांग्रेस के 10 साल भ्रष्टाचार : बिंदल         जोगिन्दर नगर के रैंस भलारा की महिलाएं तैयार कर रही हैं विभिन्न तरह का आचार         जिला स्तरीय लोकगीत प्रतियोगिता के लिए पंजीकरण 26 तक         कांगड़ा और चंबा के युवाओं ने लिया राष्ट्रीय युवा संसद में भाग         प्रतिभा सिंह ने नाचन विधानसभा क्षेत्र में किए विभिन्न विकासात्मक कार्यों के शिलान्यास         आईपीएस अधिकारी राकेश सिंह ने संभाला एसपी ऊना का पदभार         कुपोषण की रोकथाम के लिए मिशन मोड में कार्य किया जाएगा - जतिन लाल

अप्रैल में कुल कोयला उत्पादन 661.54 लाख टन

अप्रैल, 2022 महीने में भारत का कुल कोयला उत्पादन 661.54 लाख टन रहा। कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) और उसकी सहायक कंपनियों ने जहां 534.7 लाख टन कोयले का उत्पादन किया वहीं सिंगरेनी कोलरीज कंपनी लिमिटेड (एससीसीएल) का उत्पादन 53.23 लाख टन रहा और कैप्टिव खानों से पिछले महीने के दौरान 73.61 लाख टन कोयले का उत्पादन हुआ।

कोयला मंत्रालय के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल महीने के दौरान कोयला क्षेत्र का कुल उठाव 708.68 लाख टन हुआ जिसमें विद्युत क्षेत्र का उठाव अप्रैल में 617.2 लाख टन रहा। इसी दौरान अकेले कोल इंडिया से ही विद्युत क्षेत्र का उठाव 497.39 लाख टन रहा।

कोल इंडिया ने इस वर्ष अप्रैल के दौरान सबसे अधिक 534.7 लाख टन उत्पादन हासिल किया है जो 6.02 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाता है। अब तक का पिछला सबसे अधिक उत्पादन अप्रैल, 2019 के दौरान दर्ज हुआ था जब 450.29 लाख टन कोयले का उत्पादन हुआ था। इसी तरह अप्रैल में कोयला उठाव 570.55 लाख टन के आंकड़े को छू गया। कोयले का पिछला सर्वाधिक उठाव अप्रैल, 2021 में दर्ज हुआ था जब 540.12 लाख टन कोयले का उठाव हुआ था।

वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान कुल कोयला उत्पादन 7770.23 लाख टन (अस्थायी) रहा थाजो 2020-21 के दौरान हुए 7160 लाख टन उत्पादन की तुलना में 8.55 प्रतिशत वृद्धि को दर्शाता है। कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) का उत्पादन जो 2020-21में 5960.24 लाख टन था, 4.43 प्रतिशत बढ़कर वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 6220.64 लाख टन हो गया।

सिंगरेनी कोलियरीज कंपनी लिमिटेड (एससीसीएल) ने वर्ष2021-22 के दौरान 28.55 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 650.02 लाख टन कोयले का उत्पादन किया जबकि इससे पिछले वर्ष 500.58 लाख टन कोयले का उत्पादन हुआ था। कैप्टिव खानों का कोयला उत्पादन बढ़कर 890.57 लाख टन हो गया जो 2020-21 के दौरान यह केवल 690.18 लाख टन रहा था।

वर्ष 2021-22 के दौरान कोयले की कुल रवानगी 8180.04 लाख टन रही जबकि पिछले वर्ष यह आंकड़ा 6900.71 लाख टन रहा था इस प्रकार 18.43 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई। इस अवधि के दौरान, सीआईएल ने 6610.85 लाख टन कोयले की रवानगी की जबकि 2020-21 के दौरान यह आंकड़ा 5730.80 लाख टन रहा था।